अगर आपका बच्चा भी ज्यादा टीवी देख रहा है तो हो जाएं सावधान

0
193
KIDS
ज्यादा टीवी बच्चों के लिये हानिकारक

आजकल की इस भागदौड़ भरी जिन्दगीं में किसी के पास इतना समय नहीं है, कि वह अपने बच्चों को कुछ समय दे सके। और अगर आप वकिंग पेरेंट्स हैं तो आपके लिये बच्चों को समय देना बहुत मुश्किल है, आजकल के बच्चे स्कूल से आने के बाद मौका मिलते ही फोन और टीवी में लग जाते है। टीवी पर या तो अपना पंसदीदा कार्टून देखना या फिर स्टंट्स वाले प्रोग्राम देखना यह बच्चों की पहली पंसद बन गयी है। और यह सब देखते-देखते बच्चे कब एक काल्पनिक दुनिया में खो जाते हैं आपको इसका अंदाजा ही नहीं होता, क्योंकि 2 से 10 साल की उम्र में बच्चों में दिमाग का विकास तेजी से होता है, और वह हर चीज को जल्द ही सीखना चाहता है और कोई भी चीज देखकर उसे वैसा ही करना चाहते हैं। फिर चाहे वह टीवी हो फोन आजकल के बच्चे सबसे ज्यादा इन्हीं चीजों पर डिपेंड हो चुके है।

क्या कहती है रिसर्च

  • अगर देखा जाए तो यह सारी चीजें बच्चों के दिमाग पर बहुत गहरा असर डाल रहीं हैं इससे बच्चें जिद्दी, चिडचिडें, और गुस्सैल स्वाभाव के हो जाते हैं और टीवी की काल्पनिक दुनिया को सच मानने लगते हैं जिसका उन पर बहुत बुरा असर पड़ता है।
  • इस बात का खुलासा अमेरिका में हुए एक अध्ययन ने साबित हुआ कि बेडरूम में टीवी या वीडियो गेम होने से बच्चों पर बुरा असर पड़ता है, यह अध्ययन 2 साल तक किया गया।
  • अध्ययन की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बेडरूम में टीवी या वीडियो गेम होता है तो बच्चे पढ़ने, सोने और दूसरे जरूरी काम को कम समय देते हैं, जिसकी वजह से केवल बच्चों का स्कूल में प्रदर्शन खराब ही नहीं होता, बल्कि वो मोटापे का शिकार भी हो जाते हैं।
  • यहीं नहीं बच्चों के व्यवहार में काफी बदलाव आने लगते हैं वह ज्यादतर समय चुपचाप और शान्त रहते हैं, और अगर आप उन पर रोक लगाते हैं तो वह आपसे बातें भी छुपाने लगते हैं और आपकी बातों की अनदेखी भी करते है।
  • डेवलपमेंट साइकोलॉजी जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन के अनुसार बेडरूम में टीवी देखने और वीडियो गेम खेलने वाले बच्चे ज्यादा हिंसक हो जाते हैं।
  • मिशिगन स्वास्थ्य प्रणाली युनिवर्सिटी के अनुसार बेडरूम में टीवी होने से बच्चों के स्वास्थ्य के साथ उनके दिमाग पर भी गलत असर पड़ता हैं. बच्चों की सोच नेगेटिव होने लगती है।

क्या प्रभाव पड़ता है

  • देखा जाये तो बच्चों ज्यादा टीवी देखना उनके लिये काफी खतरनाक साबित हो सकता है, ज्यादा टीवी देखने की वजह से उनका पढ़ाई में उनका मन नहीं लगता, साथ ही वो टीवी मे दिखाई गई काल्पनिक चीजों को सच मानकर उन्हें अपनाने लगते हैं।
  • ज्यादा समय तक टीवी के आगे बेठे रहने से बच्चों का वजन बढ़ने के साथ वो कई बीमारियों की चपेट में आने लगते हैं।
  • ब्लू व्हेल गेम जो कि काफी पॅापलुर हुआ था उस गेम की वजह से ना जाने कितने बच्चों ने अपनी जान जोखिम डाली थी और इसका बहुत बुरा असर बच्चों के दिमाग पर पडा।
  • कई बच्चों ने इस गेम की वजह से अपनी जान गवा दी, जिसके बाद इस गेम को बैन करने का फैसला लिया गया।
  • ऐसा नहीं है कि टीवी केवल बुरा ही दिखाया जाता है बल्कि टीवी पर बच्चों को ऐसा देखने दें जो कि उनके दिमाग पर गलत असर ना डालें।
  • बच्चों को केवल उनके ही चैनल दिखने दी और एक टाइमलिमिट सेट कर दें कि यह समय है केवल टीवी देखना का आजकल तो चैनल लॅाक जैसी भी सुविधा है तो आप वहीं चैनल सेट कर दे जो आपके बच्चे के लिये सही है।
  • अगर फोन की बात करें तो फोन से एकदम ही बच्चों को दूर करें अगर यह आदत शुरु से ही डाल देंगें तो आपका बच्चा फोन से दूर रहेगा। क्योंकि ज्यादा फोन का इस्तेमाल बड़ो के भी दिमाग पर भी बुरा प्रभाव डालता है, तो फिर सोचिये बच्चों के दिमाग पर क्या असर डालेगा।

अपने बच्चे के साथ समय बितायें अगर आप वकिंग हैं तो अपने बिजी समय में से बच्चों से खुलकर बात करें और पूछे टीवी पर वह क्या पंसद करता है क्या नहीं साथ ही बच्चों को डांटफटकार के नहीं बच्चों के साथ उनके दोस्त बनकर ही पेश आयें ऐसा करने से बच्चे भी आपसे खुलकर बात करेंगें और वह जो भी कर रहे हैं सब आपसे शेयर करेंगें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here