मुगले आजम की अनारकली यानी मधुबाला की मूर्ति नजर आयेंगी दिल्ली के मैडम तुसाद म्यूजियम में

0
231
madame tussauds mahubala statue

मधुबाला हिंदी सिनेमा की वह अभिनेत्री जो अपनी खूबसूरती और दमदार अभिनय
के लिये आज भी लोगों के दिलों में राज करती हैं, और मुगले आजम में उनका
अनारकली का किरदार गहरी छाप छोडता है। मधुबाला बहुत ही बेहतरीन अदाकारा
थी और उनके अभिनय को भूल पाना मुश्किल है। उनकी इसी अदाकारी को बरकारर
रखने के लिये मधुबाला की मोम की मूर्ति अब दिल्ली के मैडम तुसाद म्यूजियम
में नजर आएगी, इस मूर्ति को मुगलेआजम में निभाए उनके अनारकली के किरदार
के रूप में तैयार किया गया है। और उनकी इस मूर्ति से मधुबाला के
प्रशंसकों को उनकी सुंदरता से एक बार फिर रूबरू होने का मौका मिलेगा।

सन् 1969 में 36 साल की उम्र में मधुबाला का दिल की बीमारी के कारण उनका
निधन हो गया था।

खबरों के मुताबिक इसे तैयार करने के लिए कई महीनों तक रिसर्च हुई। इसमें
मधुबाला के परिवार के लोगों से भी मुलाकात और बातचीत की गई। परिवार के
जरिये मिलीं मधुबाला की तस्वीरों और वीडियो का काफी रिसर्च करने के बाद
यह मूर्ति तैयार हुई है।

‘भारतीय सिनेमा की वीनस’ कही जाने वाली मधुबाला को ‘महल’ (1949), ‘अमर’
(1954), ‘मिस्टर एंड मिसेज ’55 (1955), ‘चलती का नाम गाड़ी’ (1958),
‘मुगल ए आजम’ (1960) और ‘बरसात की रात’ (1960) जैसी फिल्मों के लिए जाना
जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here