स्वच्छ भारत अभियान का संदेश देती है ‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’

0
335
toilet ek prem katha review

अक्षय कुमार अपनी हर फिल्म का प्रमोशन करने में कोई कसर नहीं छोडते हैं। यही वजह है कि अक्षय की हर फिल्म का इंतजार दर्शकों को बेसब्री से होता है। अक्षय ने ‘टॉयलेट का प्रमोशन करने में कोई कसर नहीं छोडी, और यह फिल्म आज रिलीज हो चुकी है इस फिल्म को श्रीनारायण सिंह ने डायरेक्ट किया है। ‘टॉयलेट जैसे मुद्दे पर फिल्म बनाना और समें काम करना कोई छोटी बात नहीं है, देखा जाये तो ऐसी विषयों पर फिल्में कम ही बनती है।

यह कहानी मथुरा शहर के पास के एक गांव के रहने वाले केशव (अक्षय कुमार) की है जो एक मांगलिक लड़का है, और इस वजह से 36 साल का होते हुये भी उसकी शादी नहीं हो रही है। केशव की एक साइकिल की दुकान है और एक दिन जब वो साइकिल डिलीवरी करने जया (भूमि पेडनेकर) के घर जाता है तो आंखों आंखों में प्यार हो जाता है और फिर शादी भी, लेकिन असली  कहानी तब शुरू होती है जब शादी के बाद जया ससुराल आती है और पता चलता है कि घर में शौचालय नहीं है। वह ऐसे घर में रहने से साफ मना कर देती है और फिर कई रुढ़िवादी बातें सामने आती है और कहानी में अलग-अलग किरदार अपने अपने पात्रों को निभाते हुए कहानी को आगे ले जाते हैं।

फिल्म समाज में एक नया संदेश देती है क्योंकि हमारे समाज में ‘खुले में शौच करना ऐसी समस्या है जिसका सामना ग्रामीण इलाकों में रहने वाली महिलाओं का हर रोज करना पडता है जिसके चलते उन्हें कई मुश्किलों से भी गुजरना पडता है। यह फिल्म महिलाओं की इस समस्या को पूरी तरह से उजागर करती हैं। इस फिल्म की एक खास बात यह भी है कि इसमें सरकार की स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत गांव में क्या-क्या नियम-कानून हैं, के बारे में भी बताया गया है। अगर फिल्म के डायरेक्शन, सिनेमैटोग्राफी, लोकेशन की बात करें तो यह काफी हद तक वास्तविक लगते हैं। फिल्म का बजट लगभग 18 करोड़ है और कहा जा रहा है। अक्षय और भूमि का अभिनय दमदार है और भूमि ने अपनी पहली ही फिल्म से ही बेहतरीन अदाकारी की छाप छोडी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here