सुबह उठते ही क्या करें और क्या ना करें, जिससे आपका दिन आपका अच्छा हो

0
530
DO AND DON'T IN MORNING
सुबह उठकर ये जानना बेहद ज़रूरी है कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं

दिन की शुरुआत सुबह से ही होती है और अगर आपकी सुबह अच्छी होगी तो आपका पूरा दिन भी अच्छा जाता है। अगर सुबह ही आपके साथ कुछ बुरा होता है तो पूरा दिन मानो ख़राब हो जाता है। इसलिए सुबह उठकर ये जानना बेहद ज़रूरी है कि क्या करना चाहिए और क्या नहीं। आज ऐसे ही कुछ टिप्स हम आपके लिए लाएँ है, जिन्हे फॉलो कर आप अपने दिन की अच्छी शुरुआत कर सकते है।

  • सुबह जल्दी उठें-

प्रातः 4-5 बजे उठने पर पक्षियों के कलरव और ठंडी हवाओं से हम फ्रेश महसूस करते हैं और पूरे दिन ताज़गी बनी रहती है। इतनी जल्दी उठना मुश्किल हो सकता है। लेकिन हफ़्ते भर इसे लगातार करें, यह आपकी आदत बन जाएगी।

  • सुबह हथेलियों को ज़रूर देखें-

प्रातः हथेलियों का दर्शन करने के पीछे यही संदेश है कि हम परमात्मा से अपने कर्मों में पवित्रता और शक्ति की कामना करते हैं। संसार का सारा वैभव, शिक्षा, पराक्रम हमें हाथों के ज़रिए ही मिलता है। दिन की शुरुआत हमारी अच्छी हो और पूरा दिन अच्छा बीते, इसके लिए ज़रूरी है कि सुबह उठकर ऐसे काम करें जो आपको उत्साहित और ऊर्जावान बनाए रखे। न कि ऐसी गलती कर बैठें कि पूरा दिन तनाव और परेशानी में बीते।

  • सुबह उठते ही धरती माँ को छुएँ-

इस बारें में भी शास्त्रों में कहा गया है कि अपने हैर ज़मीन में सीधे नहीं रखना चाहिए क्योंकि धरती को हम माता मानते है और सीधें उनपर पैर रखना उनका अपमान करना है। इसलिए ज़मीन में पैर रखनें से पहले जमीन को हाथों से छुए और माथें में लगाएँ। इसके बाद ही ज़मीन में पैर रखें। ऐसा करने से तन मन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। अपने कार्य में आप बेहतर प्रदर्शन कर पाते हैं।

  • स्ट्रेचिंग-

जब हम उठते हैं तब हमारी मांसपेशियाँ ख़ासकर रीढ़ कठोर होती है। सुबह उठकर बिना स्ट्रेचिंग किए हम इस कड़ेपन को आगे ढोते हैं। इससे भी हमारे पूरे दिन के कामकाज पर बुरा असर होता है। सुबह उठने के साथ शरीर को हल्के हल्के हिलाएँ। अगर हैमस्ट्रिंग और पिंडलियों में खिंचाव महसूस हो तो धीरे से स्ट्रेचिंग करें और लंबी साँस लें।

  • सुबह का नाश्ता-

सुबह उठते ही 2-3 गिलास पानी पिएं। हल्के गर्म पानी में निम्बू रस और एक चम्मच शहद डाल कर पिएं।
यह उपाय मोटापा घटाता है और विषैले तत्वों को शरीर से बाहर निकालता है। यह उपाय लगातार एक महीने से ज़्यादा नहीं करना चाहिए। एक महीने के बाद कुछ दिनों के समय पर दोबारा शुरू करना ज़्यादा फ़ायदेमंद है।
सुबह के नाश्ते में दलिया, अंकुरित चना-मूंग, फल के जूस, कटे फल, ब्राउन ब्रेड सैंडविच, सूखे मेवे, दही, बनाना शेक, निम्बू पानी लेना बहुत ही अच्छे विकल्प है। ऐसा नाश्ता आपको शक्ति के साथ सही पोषण और सक्रिय मन-स्थिति भी प्रदान करता है।

  • सुबह उठते ही क्या ना करें-

DO AND DON'T IN MORNING
अगर सुबह ही आपके साथ कुछ बुरा होता है तो पूरा दिन मानो ख़राब हो जाता है।
बुरे शब्दों का प्रयोग:-

बुरे शब्दों का प्रयोग न करें, इसे नकारात्मकता आती है।

धूम्रपान करना:-

यूँ तो धूम्रपान चाहे किसी भी वक्त किया जाए, नुकसानदेह ही होता है। लेकिन सुबह सोकर उठने के तुरंत बाद सिगरेट पीना अधिक ख़तरनाक हो सकता है। इससे कैंसर होने की आशंका अधिक बढ़ जाती है।

शराब आदि का सेवन:-

कई लोग ऐसे होते हैं जो अपनी सुबह की शुरुआत शराब पीने से ही करते हैं। सुबह उठने के साथ ही शराब पीना सेहत के लिए बहुत नुकसानदेह होता है।

सुबह उठते ही लड़ाई-झगड़ा:-

दिन की शुरुआत सकारात्मक होनी चाहिए। सुबह उठने के साथ ही किसी के साथ उलझ जाना सही नहीं है। इससे दिनभर आपका मूड ख़राब ही बना रहेगा और आप किसी भी काम में अपना सौ फ़ीसदी नहीं दे पाएंगे।

मसालेदार खाना:-

सुबह के समय बहुत अधिक मसालेदार खाना खाने से परहेज़ करना चाहिए। सुबह के समय जितना हल्का और पौष्ट‍िक खाना खा सकें, उतना बेहतर है। सुबह सुबह अंकुरित दाल या चने खाएँ दलिया, ओट्स खाना भी फ़ायदेमंद है।

भड़काऊ चीजें और लड़ाई झगड़े देखना:-

अगर आप भी सुबह उठने के साथ ही टीवी खोलकर बैठ जाते हैं तो इस बात का ख़्याल रखें कि आप कुछ भी ऐसा न देखें जो भड़काऊ हो। इसका सीधा असर आपके काम और मूड पर पड़ता है, सुबह-सुबह बेहतर होगा कि आप सॉफ़्ट गाने सुनें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here