दूर करें नकारात्मक सोच और जीतें ज़िंदगी का गेम

0
469
HOW TO THINK POSITIVE
फोटो- इंटरनेट द्वारा: सकारात्मक सोच जीवन में खुशियाँ भरता है।

जिस प्रकार सकारात्मक सोच जीवन में खुशियाँ भरता है, वहीं नकारात्मक सोच जीवन में निराशा उत्पन्न करता है। क्या आपने कभी सोचा है, क्यों बच्चे हमेशा खुश रहते है व हर वक्त मुस्कुराते रहते है? क्योंकि उनके अंदर नकारात्मक सोच नहीं होती है।

नकारात्मक सोच टेंशन, थकान, तनाव, अवसाद के कारण होता है। तनाव हमारी सोचने की क्षमता को बहुत प्रभावित करता है। नकारात्मक सोच से डिप्रेशन जैसी कई गंभीर बीमारियाँ बढ़ जाती है ।

ये है अंतर सकारात्मक और नकारात्मक सोच वालों में-

सकारात्मक सोच रखने वाला अगर किसी बुरे वक्त में फस जाता है तो वो सबसे पहले ये सोचता है, ‘बुरा वक्त है, बीत ही जाएगा’ जबकि नकारात्मक सोच वाला व्यक्ति ये मान लेता है है कि अगर आज इतना बुरा दिन है कल तो और भी ज़्यादा बुरा दिन होगा।
नकारात्मक सोच वाले हमेशा किसी न किसी तरह की टेंशन में रहते हैं। ऐसी सोच वाले लोग चीजों को लेकर हमेशा शिकायत करते रहते हैं। ऐसे लोग बहुत जल्दी मुसीबत से घबरा जाते हैं

भगवान भी उन्हीं की मदद करता है, जो खुद की मदद पहले करता है-

हम सबको मालूम है कि नकारात्मक सोच का नतीजा कितना भयानक होता है। पर आप में से कितने खुद को पॉज़िटिव बनाने की कोशिश करते हैं? शायद बहुत कम, है ना?
इन विचारों को रोकने के लिए आपको खुद ही कोई स्टैंड लेना होगा और अपने नकारात्मक विचारों को सकारात्मकता में बदलने का संकल्प आपको खुद ही लेना पड़ेगा।

एक संकल्प लें-

खुद से आज ही एक वादा करें कि आप ‘इस पल’ के लिए समर्पित रहेंगे। यानी कि आज, अभी जो पल है, वही आपका है और आपको उसका पूरा इस्तेमाल करना होगा। अगला जो पल आएगा, वह भी ‘इस पल’ हो जाएगा। वो कबीर का दोहा तो याद ही होगा ना-
काल करे सो आज कर, आज करै सो अब
पल में परलय होएगी, बहुरी करेगा कब

अपना आत्मविश्वास को बढ़ाएँ-

आत्मविश्वास की कमी के वजह से अधिकतर लोग नकारात्मक सोचना शुरू कर देते हैं। पर एक बात जान लें, कि बेशक आपसे एक़ गलती हो गई हो लेकिन इसका मतलब ये तो नहीं नहीं है कि आप हमेशा गलत ही करेंगे।
अपने आत्मविश्वास और व्यक्तित्व को निखारने का प्रयास करें। हो सकता है शुरुआत में आपको दिक्कत हो,लेकिन नियमित प्रयास से आप सफल ज़रूर होंगे।

खुलकर हँसना शुरू करे –

वो आपने सुना तो ज़रूर होगा कि हँसना सेहत के लिए बहुत ज़रूरी होता है। आप हेल्दी रहने के लिए लाफ़िंग थेरेपी शुरू कर सकते हैं। इसके लिए आप लॉफिंग क्लब जाना शुरू करें, ताकि आप दिल खोलकर हँस सके।

ये बिल्कुल ना सोचे की अगर आप नकारात्मक सोच का शिकार है तो आप बीमार है और इसका कोई इलाज नही है। ज़रूरत है तो बस यहाँ दी हुई कुछ जानकारियों को समझने की और उसपर अमल करने की। थोड़े से प्रयास से आप खुद को बदलकर सकारात्मकता के उजाले की ओर बढ़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here