पांच ऐसे यज्ञ जिनसे घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है

0
381
yajna
यज्ञ करने से घर में सुख-शांति होती है

व्यक्ति से रोज़ कोई ना कोई पाप हो जाता है जैसे कि किसी मनुष्य से अभद्र भाषा में बात करना, किसी को पीटना, चोरी करना इत्यादि काम करना पाप का हिसा है। इसे मनुष्य खुद ही परेशान रहेता है और उसका मन भी अशांत रहेता है। इनसे बचने के लिए आपको रोज़ाना यह पांच कार्य करने चाहिए।

मनुस्मृति के अनुसार व्यक्ति से रोजमरहा की जिंदगी में जानेअनजाने पाप हो जाते है। उसकी शांति या उस पाप से मुक्त के लिए रोज़ पांच यज्ञ करने चाहिए। इसे आपको शांति मिलेगी और घर में भी सुखसमृद्धि बनी रहेगी। यहां यज्ञ करने का मतलब अग्नि में आहुति देना नहीं है बल्कि अध्ययन, अतिथि सत्कार आदि से है। 5 यज्ञ इस प्रकार है :-

श्लोक

अध्यापनं ब्रह्मयज्ञ: पितृयज्ञस्तु तर्पणम् ।

होमो दैवो बलिर्भौतोनृयज्ञोतिथिपूजनम् ।।

अर्थात्वेदों का अध्ययन करना और कराना ब्रह्मयज्ञ, अपने पितरों का श्राद्धतर्पण करना पितृ यज्ञ, हवन करना देव यज्ञ, बलिवैश्र्वदेव करना भूत यज्ञ और अतिथि सत्कार करना तथा उन्हें भोजन करवाना नृयज्ञ अर्थात मनुष्य यज्ञ कहलाता हैं।

1. ब्रह्मयज्ञ

हर रोज़ वेदों का अध्ययन करना चाहिए इसे ब्रह्मयज्ञ होता है। वेदों के अलावा पुराण, गीता, उपनिषद, महाभारत, रामायण आदि अध्यात्म की पुस्तकों का पाठ करने से यह यज्ञ पूरा हो जाता हैं। यह ना हो पाए तो मात्र गायत्री मंत्र का जाप करने से ब्रह्मयज्ञ को संम्पूर्ण कर देता है। धार्मिक द्रिष्टि से इस यज्ञ को करने से ऋषि ऋण से मुक्त हो जाते हैं।

2. देवयज्ञ

देवीदेवताओं को प्रसन्न करने के लिए हवन करना देवयज्ञ कहलाता है। इस यज्ञ को करने से घर में सुखशांति और समृद्धि का वास होती है। साथ ही मन पवित्र के साथ आपके विचार भी शुद्ध हो जाते है।

3. पितृयज्ञ

मृत पितरों की संतुष्टि व तृप्ति के लिए अन्नजल को समर्पित किया जाता है इस को पितृयज्ञ कहते है। जिससे पितरों को संतुष्टि मिलती है और वह हमें सुखसमृद्धि का आर्शिवाद देते है। इसके लिए विशेष दिन आमवस्य, पितृपक्ष आदि हैं।

4. भूतयज्ञ

कीटपतंगे, पशुपक्षी, कीड़ा या धाताविधाता स्वरूप भूतादि देवताओं के लिए अन्न या भोजन अर्पित करने को भूतयज्ञ कहते है।

5. मनुष्य यज्ञ

आपके दरवाज़े पर अगर कोई भी आता है तो उस अतिथि को अन्न, वस्त्र, धन से तृप्त करना या दिव्य पुरूषों को अन्न दान आदि को मनुष्य यज्ञ कहते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here