क्यों है धनतेरस पर बर्तन ही खरीदने की परम्परा

0
477
DHANTERAS
धनतेरस 2017

दीवाली हिन्दूओं के प्रमुख त्यौहार में से एक है दीवाली केवल भारत में ही नहीं विदेशों में भी धूम धाम से मनायी जाती है। दीवाली पूरे पांच दिन का त्यौहार होता है और पूरे पांच दिन तक धूम धाम से इस त्यौहार को मनाया जाता है। दीवाली के पहले दिन धनतेरस आता है। हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक धनतेरस कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन यानि दिवाली दो दिन पहले मनाया जाता है और इस बार धनतेरस 17 अक्टूबर 2017 को है,आइये जानते है धनतरेस क्यों मनाया जाता है किस भगवान की होती है विशेषतौर से पूजा-

धनतेरस पर बर्तन खरीदने की क्यों है परम्परा

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस या धनत्रयोदशी के नाम से जाना जाता है, धन्वन्तरी जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथो में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वन्तरि चूंकि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परम्परा है। कहीं-कहीं यह भी माना जाता है इस दिन धन (वस्तु) खरीदने से उसमें तेरह गुणा वृद्धि होती है। इस अवसर पर लोग धनिया के बीज खरीद कर भी घर में रखते हैं। दीपावली के बाद इन बीजों को लोग अपने बाग-बगीचों में या खेतों में बोते हैं।

धनतेरस के दिन चांदी और सोना खरीदने की भी परम्परा है इसके पीछे यह कारण माना जाता है कि यह चन्द्रमा का प्रतीक है जो शीतलता प्रदान करता है और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है। संतोष को सबसे बड़ा धन कहा गया है। जिसके पास संतोष है वह स्वस्थ है सुखी है और वही सबसे धनवान है। भगवान धन्वन्तरि जो चिकित्सा के देवता भी हैं उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना के लिए संतोष रूपी धन से बड़ा कोई धन नहीं है। लोग इस दिन ही दीपावली की रात लक्ष्मी गणेश की पूजा हेतु मूर्ति भी खरीदते हें।

धनतेरस पूजा विधि और सामाग्री

सबसे पहले नहाकर साफ वस्त्र पहनें फिर भगवान धन्वन्तरि की मूर्ति या चित्र साफ स्थान पर स्थापित करें तथा स्वयं पूर्वाभिमुख होकर बैठ जाएं। इस धन धन्वन्तरि देवता के साथ मां लक्ष्मी और भगवान कुबेर की भी पूजा की जाती है।उसके बाद भगवान धन्वन्तरि का आह्वान निम्न मंत्र से करें-

सत्यं च येन निरतं रोगं विधूतं,
अन्वेषित च सविधिं आरोग्यमस्य।
गूढं निगूढं औषध्यरूपम्, धन्वन्तरिं च सततं प्रणमामि नित्यं।।

इसके पश्चात पूजन स्थल पर आसन देने की भावना से चावल चढ़ाएं। इसके बाद आचमन के लिए जल छोड़े भगवान धन्वन्तरि के चित्र पर गंध, अबीर, गुलाल पुष्प, रोली, आदि चढ़ाएं, चांदी के पात्र में खीर का नैवैद्य लगाएं। (अगर चांदी का पात्र उपलब्ध न हो तो अन्य पात्र में भी नैवेद्य लगा सकते हैं। उसके बाद पुन: आचमन के लिए जल छोड़े, मुख शुद्धि के लिए पान, लौंग, सुपारी चढ़ाएं। भगवान धन्वन्तरि को वस्त्र (मौली) अर्पण करें शंखपुष्पी, तुलसी, ब्राह्मी आदि पूजनीय औषधियां भी भगवान धन्वन्तरि को अर्पित करें, और सबके मंगल और रोग मुक्त भविष्य और समस्त जगत के कल्याण की कामना करें।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here