मेहंदीपुर धाम में महाबली हनुमान करते लोगों के संकट दूर

0
397
mehandipur balaji mandir
मेंहदीपुर धाम में किस तरह से लोगों के संकट दूर होते हैं

कहा जाता है कि भक्ति के आगे भगवान भी झुक जाते हैं। भगवान अपने भक्त को संसार के हर दु:ख से बचाने के लिए आतुर रहते हैं। ऐसे ही महाबली हनुमान की भक्ति है। भगवान श्री राम ने तभी तो हनुमान को भक्ति शिरोमिण बना दिया। आज हम आपको उन्हीं पवन पुत्र हनुमान के स्वरूप के बारे में रूबरू कराएगे। पवन पुत्र की लीलाएं बालपन से ही शुरू हो गई थी। पवन पुत्र हनुमान को कई नामों से जाना जाता हैं जिनमें से एक बालाजी के नाम पर भी है। मेंहदीपुर में भी महाबली हनुमान अपने बाल स्वरूप में विराजमान हैं।

मान्यता है कि मेंहदीपुर बालाजी के दर्शन करते ही आपके सभी प्रकार के संकट कट जाते हैं। जो भी मेंहदीपुर धाम जाता है तो वह अपने सारे दु:, विपत्तियां उनके चरणों में छोड़ आता है। यहां आकर जिसने भी श्री बालाजी का आर्शिवाद ले लिया उस इंसान की हर मनोकामना का भार स्वयं बालाजी महाराज उठा लेते हैं। तभी तो मेंहदीपुर बालाजी एक बार आकर दर्शन कर ले वह बारबार आने के लिए इच्छुक रहता हैं।

माना जाता हैं कि मेंहदीपुर बालाजी धाम में हनुमान के बाल रूप का अति मनमोहक और आलौकिक दर्शन होता है। यहां श्री बालाजी महाराज के मंदिर के ठीक सामने सीताराम जी का दरबार सजता है। जिसे देखकर लगता है कि हनुमान जी अपने प्रभु को निरंतर देखकर खुश हो रहे हैं और साथ ही मां सीता के साथ प्रभु राम जी अपने सबसे प्रिय भक्त को देखकर मुस्करा रहे हो।

मेहंदीपुर में केवल बालाजी के दर्शन नहीं होते हैं, बल्कि इनके साथ श्री भैरव जी और श्री प्रेतराज सरकार के भी साक्षात दर्शन होते हैं। इसीलिए कुछ भक्त इस धाम को त्रिदेवों का धाम भी कहते है।

जो भी इंसान सच्चे मन और भक्ति भाव से मेहंदीपुर बालाजी के दरबार में अर्जी लगाता है उसकी सुनवाई अवश्य होती है। श्री बालाजी उस भक्त की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। मान्यता हैं मेहंदीपुर धाम कोई भी भक्त उदास नहीं लौटता।

मेहंदीपुर धाम में हर प्रकार की समस्या का समाधान होता हैं। चाहे फिर भूतप्रेत की बाधा हो या कोई बीमारी। आपको जानकर हैरानी होगी, लेकिन बालाजी के दरबार में भक्त पागलपन, मिर्गी, लकवा, और टी.बी जैसी बीमारियों के समाधान के लिए भी आते हैं और कमाल कि बात यह है कि श्री बालाजी महाराज की कृपा से उनका ये संकट भी शीघ्र कट जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here