इस बच्ची को 4 साल की उम्र से ही आने लगे थे पीरियड्स, जाने किस बीमारी का शिकार है यह बच्ची

0
301
Emily Dover
फोटो साभार- इंटरनेट

किसी भी लडकी में हॉर्मोन बदलाव ज्यादातर 13 से 15 साल की उम्र तक होने लगते हैं जिसमें सबसे खास बदलाव होता है पीरियड्स यानी की माहवरी आना इससे लडकियों में काफी कुछ शारीरिक और मानसिक बदलाव भी आते हैं, और कभी-कभी उन्हें कई दिक्कतों का सामना भी करना पडता है। लेकिन जरा सोचिये किसी बच्ची को अगर 4 साल की उम्र में ही पीरियड्स आने लगे तो, सुनने में अटपटा लगता है ना, लेकिन यह सही है।

यह वाक्या है ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स की पांच साल की बच्ची का जिसे महज चार साल की उम्र में ही पीरियड्स आना शुरु हो गये, और दो साल की उम्र में उसमें ऐसे बदलाव आने लगे जो एक किशोरवस्था की लडकी में दिखाई देते हैं। जैसे कि चेहरे पर मुंहासे आने लगना, शारीरिक विकास, और अन्य लक्षण दिखने लगे ऐसा एडिसन नाम की बीमारी के कारण ऐसा हुआ, जिसमें उसका वजन भी असामान्य रूप से बढ़ गया है। और इस बीमारी के चलते एमिली अस्वस्थ भी रहती है लेकिन ऐसा शुरु से नहीं था एमिली जन्म के समय एक स्वस्थ बच्ची थी लेकिन जन्म के कुछ समय बाद उसका तेजी से विकास होने लगा और चार महीनें में वह एक साल की बच्ची की तरह दिखने लगी। इन सबकी वजह से उसे कई दिक्कतों का सामना भी करना पड रहा है।

एमिली की मां टैम डोवर के मुताबिक, “एमिली को मासूम लड़की बनने का मौका ही नहीं मिला, दो वर्ष की उम्र तक एमिली के चेहरे पर मुंहासे निकल आए, हम तभी समझ गए कि हमारी बेटी औरों से अलग है। उसके साथ कुछ असामान्य है.” इस बारे में एमिली के पिता टैम डोवर का कहना है कि उनकी बेटी शरीर को लेकर हमेशा सचेत रहती है और उसे पता है कि वह अपनी उम्र के अन्य बच्चों से अलग है। दुर्भाग्य से, छोटी लड़की यह समझने में असमर्थ है कि वह किस दौर से गुजर रही है.।अपनी चिंता जाहिर करते हुए टैम ने कहा, “चूंकि अगले साल से वह स्कूल जाने लगेगी तो ऐसे में नई मुश्किलें सामने आ सकती हैं।

अपनी बेटी को इस समस्या से बचाने के लिये टैम ने अपनी बेटी के इलाज और देखरेख में लगने वाले पैसे को इकट्ठा करने के लिए गोफंडमी ‘GoFundMe’ नाम का एक पेज बनाया है इस पेज पर उन्होंने लिखा है कि एमिली के शरीर में होने वाले बदलावों के बारे में भी बताया है, साथ ली लोगों से महंगे हॉर्मोन रीप्लेसमेंट थेरेपी के लिए लोगों से मदद मांगी है।

जरा सोचिये यह उम्र होती है खेलने और कूदने की लेकिन इस उम्र में इस छोटी सी बच्ची को काफी कुछ झेलना पड रहा है साथ ही वह अस्वस्थ है लेकिन इस बच्ची ने हिम्मत नहीं हारी है और वह अपनी सामान्य जिन्दगी जीने की कोशिश कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here