गिरफ्तार हुए बीजेपी के 500 से ज्यादा कार्यकर्ता

0
177
Mangaluru Chalo
बेंगलुरु प्रदेश में भाजपा के कार्यकर्ता

बेंगलुरु प्रदेश में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने मेंगलुरु रवाना होने वाली बाइक रैली का आयोजन किया, लेकिन प्रदेश पुलिस ने रैली निकलने से पहले ही भाजपा के 500 से अधिक कार्यकर्ताओं को वहाँ के कई अलग-अलग जिलों से मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया। इस रैली का आयोजन तटवर्ती जिलों में भाजपा और संघ परिवार के कार्यकर्ताओं पर हुए हमलों, वन मंत्री रमानाथ के इस्तीफे और दो संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर भारतीय जनता युवा मोर्चा ने किया था। बाइक रैली को अनुमति नहींं मिलने को लेकर भाजपा और सिद्धरामय्या के नेतृत्व वाली सरकार के बीच सोमवार को बहुत बहस हो चुकी थी।

भाजपा के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करने के पीछे पुलिस ने कारण बताए, कि भाजपा ने निषेधाज्ञा आदेश का उल्लंघन कर अनुमति नहीं दिए जाने के बावजूद इस रैली के आयोजन की घोषणा की थी। इसके बाद सरकार ने उन जिलों के पुलिस अधीक्षकों को रैली को रोकने के लिए हर संभव कदम उठाने के निर्देश दिए थे, जहां से बाइक रैली शुरु होनी थी। मेंगलूरु के अलावा बेंगलूरु, बल्लारी, मैसूरु, चिकमगलूरु, हासन, हुब्बल्ली, कोलार और उडुपी पुलिस ने भी अलग-अलग कारणों से रैली आयोजित करने की अनुमति देने से साफ़ इनकार कर दिया। कई जगहों पर बाइक रैली की वजह से ट्रैफिक जाम की समस्या को आधार बताया गया, तो कुछ जगहों पर शांति-व्यवस्था भंग होने को आधार बताया गया। इनमें से ज़्यादातर शहरों में पुलिस ने रैली को असफल करने के लिए सावधानी बरतने के लिए धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा भी लगा दी। साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया।

clashes between the BJP workers and police at the Freedom Park
बेंगलुरु प्रदेश में भाजपा के कार्यकर्ता

भाजपा की योजना थी कि 5 सितम्बर को अलग-अलग जिलों से रवाना हुई रैली, 7 सितम्बर को मेंगलूरु के मंगला स्टेडियम पहुंचेगी जहां सभा होनी है। इस बीच, सरकार ने संकेत दिए हैं कि बेंगलूरु में रैली के आयोजन की अनुमति दी जा सकती है। बेंगलूरु के फ्रीडम पार्क से बाइक रैली की शुरुआत प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा को करना था। पुलिस ने फ्रीडम पार्क के आसपास सुबह से चौकसी बढ़ा दी थी। करीब 500 बाइक सवार कार्यकर्ता जगह-जगह पुलिस नाकेबंदी के बावजूद फ्रीडम पार्क पहुंचने में सफल रहे।
स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने येदियुरप्पा से अपने घर से बाहर नहीं आने और रैली में शामिल नहीं होने की अपील की थी , पुलिस को संदेह था कि येदियुरप्पा के फ्रीडम पार्क में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पर स्थिति ज्यादा बिगड़ सकती है। पुलिस के आग्रह करने से येदियुरप्पा कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए । स्थिति को काबू में लाने के लिए एक कार्यकर्ता को कुछ महिला पुलिसकर्मी घसीटते हुए बस में ले गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here