क्या है ब्रिक्स शिखर सम्मेलन? जाने 2017 ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की ख़ास बाते

0
560
9वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को 3 से 5 सितंबर तक शियामेन , चीन में आयोजित किया गया।
  • क्या है ब्रिक्स:-

अँग्रेज़ी अक्षरों बी. आर.आई. सी. एस. से बना शब्द ‘ब्रिक्स’ दुनिया की पाँच उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं का एक समूह है।
इसमें ब का मतलब ब्राज़ील, र का मतलब रूस, ई का मतलब इंडिया यानी भारत, सी का मतलब चीन और स का मतलब साउथ अफ़्रीका यानी दक्षिण अफ़्रीका है। ब्रिक्‍स के ये सभी पाँच देश जी-20 के भी सदस्‍य हैं। पाँच देशों वाले इस समूह में वर्ष 2014 ब्राज़ील में हुए सम्‍मेलन में अर्जेंटीना को भी आमंत्रित किया गया था।

ब्रिक्स संगठन का आइडिया सबसे पहले इनवेस्ट बैंक गोल्डमैन सैक्स के चेयरमैन जिम ओ नील को 2001 में आया था। ब्रिक्स देशों के प्रारंभिक चार ब्रिक देश (ब्राज़ील , रूस, भारत और चीन) के विदेश मंत्री सितंबर 2006 में न्यूयॉर्क शहर में मिले और उच्च स्तरीय बैठकों की एक श्रृंखला की शुरुआत की।

  • ब्रिक्स शिखर सम्मेलन:-

    brics summit 2017
    अब तक कुल 9 ब्रिक्स सम्मेलन हो चुके है।

पहला शिखर सम्मेलन 2009 में येकातेरिनबर्ग (रूस) में आयोजित किया था जिसमें ब्रिक्स देशों ने गहराई से आपस में संवाद किया। 2011 में ब्रिक्स सम्मेलन का आयोजन दक्षिण अफ़्रीका में करने के साथ इसका विस्तार किया गया और यह ब्रिक्स बन गया। दुनिया के कुल सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में इन पाँचों देश की हिस्सेदारी 30 फ़ीसदी के करीब है।अब तक कुल 9 ब्रिक्स सम्मेलन हो चुके है।

आइये नज़र डालते है कब कब कहाँ-कहाँ  हुए अब तक के ब्रिक्स शिखर सम्मेलन

brics summit 2017
अब तक कुल 9 ब्रिक्स सम्मेलन हो चुके है।

नौवाँ ब्रिक्स शिखर सम्मेलन- चीन (शियामेन )

आठवाँ ब्रिक्स शिखर सम्मेलन- 15-16 अक्टूबर 2016, भारत( गोवा)

सातवां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन – 8-9 जुलाई, 2015, रूस (ऊफा) में

छठा ब्रिक्स शिखर सम्मेलन – 14-16 जुलाई, 2014, ब्राज़ील (फोर्ट्लीज़ा) में

पाँचवाँ ब्रिक्स शिखर सम्मेलन – 26-27 मार्च, 2013, दक्षिण अफ़्रीका (डरबन) में

चौथा ब्रिक्स शिखर सम्मेलन – 29 मार्च, 2012, भारत (नई दिल्ली) में

तीसरा ब्रिक्स शिखर सम्मेलन – 14 अप्रैल, 2011, चीन (सान्या) में

दूसरा ब्रिक शिखर सम्मेलन – 16 अप्रैल, 2010, ब्राज़ील (ब्राज़ीलिया)

प्रथम ब्रिक शिखर सम्मेलन – 16 जून, 2009, रूस (येकातरिनबर्ग) में

  • 2017 ब्रिक्स शिखर सम्मेलन:-

2017 ब्रिक्स शिखर सम्मेलन वर्तमान में ब्रिक्स का नौवाँ वार्षिक शिखर सम्मेलन है, जिसमें पाँच सदस्यीय देशों ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ़्रीका की सरकारों के प्रमुख ने हिस्सा लिया। इस शिखर सम्मेलन का आयोजन चीन के शियामेन शहर में हुआ, इसके अलावा चीन 2011 में भी ब्रिक्स शिखर सम्मेलन की मेज़बानी कर चुका है।

9वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को 3 से 5 सितंबर तक शियामेन , चीन में आयोजित किया गया। इस शिखर सम्मेलन में पाँच सहयोगी देश जैसे ब्राज़ील , रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ़्रीका ने भाग लिया। इस वर्ष सम्मलेन की थीम है  “BRICS: Stronger Partnership for a Brighter Future”

 

  • शिखर सम्मेलन के महत्वपूर्ण  बातें इस प्रकार हैं:-

brics summit 2017
9वां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को 3 से 5 सितंबर तक शियामेन, चीन में आयोजित किया गया।

पाकिस्तान आधारित आतंकवादी समूह को नामांकित किया गया:-

पहली बार पाकिस्तान आधारित आतंकवादी समूह को नामांकित किया गया। आतंकवादी समूह जैसे एलईटी और जेएम को इस क्षेत्र में हिंसा पैदा करने के लिए पहली बार इस मंच से नामित किया गया।

डोकलाम के बाद मोदी-शी की द्विपक्षीय बैठक:-

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच 73 दिन डोकलाम विरोध के बाद पहली द्विपक्षीय बैठक की। जिनपिंग ने द्विपक्षीय बातचीत पर भी कहा कि वो भारत के साथ मिलकर पंचशील समझौते के पाँच सिद्धांतों पर काम करने को तैयार है। इससे पहले पीएम मोदी ने जिनपिंग को ब्रिक्स समिट के सफल आयोजन की बधाई दी और जिनपिंग से कहा कि बैठक से ब्रिक्स देशों के रिश्ते मज़बूत हुए हैं।

ब्रिक्स राष्ट्रों के बीच व्यावसायिक संबंधों को बढ़ावा देने के लिए दस्तावेज़ों को शामिल किया गया:-

ब्रिक्स देशों द्वारा समूचे सदस्यों के बीच व्यापारिक संबंधों को गहरा करने के उद्देश्य से आर्थिक और व्यापार सहयोग सहित कई दस्तावेज़ों पर हस्ताक्षर किए गए।

मोदी-पुतिन मीटिंग:-

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों नेताओं ने बैठक हुई। मोदी के आगमन के बाद से यह पहली द्विपक्षीय बैठक थी। उन्होंने अफ़ग़ानिस्तान में सुरक्षा स्थिति के साथ-साथ द्विपक्षीय व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने के तरीके पर चर्चा की।

क्रेडिट लाइनों के लिए ब्रिक्स देशो के पाँच बैंक ने संधि की:

ब्रिक्स बैंक सहयोग तंत्र के पाँच बैंक राष्ट्रीय मुद्राओं में क्रेडिट लाइन स्थापित करने और क्रेडिट रेटिंग पर सहयोग करने पर सहमत हो गए। ब्राज़ीलियाई डेवलपमेंट बैंक, वीनशेकॉन बैंक, एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट बैंक ऑफ़ इंडिया, चीन डेवलपमेंट बैंक और डेवलपमेंट बैंक ऑफ़  साउथ अफ़्रीका ने समझौते पर हस्ताक्षर किए।

चीन ने ब्रिक्स के लिए 80 मिलियन डॉलर अनुदान योजना की घोषणा की:

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने ब्रिक्स आर्थिक और प्रौद्योगिकी सहयोग योजना के लिए 500 मिलियन युआन (76.4 मिलियन डॉलर) और ब्रिक्स देशों के न्यू डेवलपमेंट बैंक के लिए 4 मिलियन देने की घोषणा की।

  • पीएम मोदी और शी जिनपिंग की ब्रिक्स में मुलाकात की ख़ास बातें:-

modi and china pm
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच 73 दिन डोकलाम विरोध के बाद पहली द्विपक्षीय बैठक की।

1- प्रधानमंत्री ने मुलाकात के बाद ट्वीट किया, “शी जिनपिंग से मुलाकात की। हमने भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय संबंधों को लेकर सफल बातचीत की।”

2- चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि चीन और भारत के बीच स्वस्थ एवं स्थाई द्विपक्षीय संबंध लोगों के मौलिक हितों के अनुरूप हैं।

3- शी ने नौंवे ब्रिक्स सम्मेलन के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ द्विपक्षीय बैठक में कहा, “चीन राजनीतिक आपसी विश्वास में सुधार, आपसी लाभप्रद सहयोग को बढ़ाने और सही मार्ग पर चीन, भारत संबंधों को ले जाने के लिए शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के पांच सिद्धांतों के आधार पर काम करने का इच्छुक है।”

4- मोदी और शी की यह मुलाकात डोकलाम को लेकर दोनों देशों के बीच बीते दो महीने से चल रहा गतिरोध के खत्म होने के बाद हुई है। इस दौरान दोनों नेताओं ने सीमा मुद्दे पर भी चर्चा की।

5- जयशंकर ने बताया कि दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान भविष्योन्मुखी बातचीत हुई और पीछे मुड़कर देखने वाली बातचीत नहीं थी।

6- दोनों नेताओं ने दोनों पक्षों के बीच परस्पर विश्वास को बढ़ाने और मजबूत करने के प्रयास करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया और यह महसूस किया गया कि ‘सुरक्षा एवं रक्षाकर्मियों को पुख्ता संपर्क और सहयोग बनाए रखना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हाल ही में पैदा हुए हालात फिर न पैदा हों।

7- दोनों की मुलाकात के दौरान मोदी और शी ने इस साल अस्ताना में उनके बीच बनी उस सहमति पर ज़ोर दिया कि मतभेदों को विवाद नहीं बनने दिया जाए।

8- इस मुलाकात के दौरान मोदी ने ‘बेहद सफल ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को लेकर शी को बधाई दी और कहा कि तेज़ी से बदलती दुनिया में इस समूह को अधिक प्रासंगिक बनाने में यह सम्मेलन सफल रहा है।

9- जयशंकर ने कहा, “रक्षा और सुरक्षा कर्मियों को मज़बूत संपर्क और सहयोग बनाए रखना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हाल ही में पैदा हुई स्थिति दोबारा न हो।”

10- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि वह नौवें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के समापन के बाद म्यांमार के लिए रवाना हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here