हो जाइये सावधान, कहीं आपके खाने में तेज़ाब तो नहीं?

0
206
acid washed ginger
पानी में एसिड मिलाकर उसे डाइल्यूट कर अदरक की धुलाई की जा रही है।

मिलावट के ज़माने में खाने पीने की कौन सी चीज़ नकली और असली है, यह पहचानना बेहद मुश्किल हो गया है।
आए दिन अख़बार और न्यूज़ में मिलावट के गोरखधंधे की ख़बरें आती रहती हैं। चौकाने वाली बात ये है कि अब तो हर दिन के खाने में इस्तेमाल होने वाली फलों और सब्ज़ियों में भी मिलावट की जा रही है, जो कि अपराध के साथ साथ हमारे सेहत के साथ खुलेआम खिलवाड़ भी है।

हाल ही में यह खबर आई है कि दिल्ली की आज़दपुर मंडी में इन दिनों अदरक को चमकाने के लिए एसिड का इस्तेमाल किया जा रहा है।

क्या है मामला:-

acid washed ginger
फ़ोटो- गूगल द्वारा: पानी में एसिड मिलाकर उसे डाइल्यूट कर अदरक की धुलाई की जा रही है।

नॉर्थ दिल्ली में एसिड (तेज़ाब) से अदरक की धुलाई वाले कारोबार पर छापेमारी की गई है। शनिवार को की गई छापेमारी में इस कारोबार का पर्दाफ़ाश हुआ, जिसमें सैकड़ों लीटर एसिड और सैकड़ों टन अदरक ज़ब्त किया गया।

एसडीएम वीरेंद्र सिंह का खुलासा:-

एसडीएम वीरेंद्र सिंह ने बताया, “हमें ख़बर मिली थी कि आजादपुर मंडी के सामने महेंद्रा पार्क और आदर्श नगर के पास एक गोदाम में कुछ अदरक व्यापारी उसे धोने के लिए तेज़ाब का प्रयोग कर रहे है। जब हमारी टीम अचानक मौके पर पहुँची तो देखा कि अदरक के एक व्यापारी के यहाँ काम करने वाले कर्मचारी अदरक को तेज़ाब से धो रहे थे।”
वीरेंद्र सिंह ने आगे बताया, “घटना स्थल से कई गैलन एसिड बरामद किया गया। इसके अलावा तेज़ाब से धुली कई बोरी अदरक भी ज़ब्त की गई। यह भी हो सकता है कि अदरक व्यापारी दिल्ली से बाहर भी अदरक का व्यापार करते हैं।”

कई धाराओं में मामला दर्ज:-

एसडीएम वीरेंद्र सिंह ने बताया कि सभी गोदाम मालिकों के खिलाफ़ पॉइज़न ऐक्ट-1919, पब्लिक सेफ़्टी ऐक्ट-133 के अलावा अन्य धाराओं में कार्रवाई कर, सभी गोदामों को सील कर दिया गया है। छापेमारी के दौरान गोदामों का मालिक पुलिस के हाथ नही आ पाया क्योंकि गोदाम में कई ख़ुफ़िया दरवाज़े हैं।

कई लोग हो सकते हैं इस अपराध मे शामिल:-

इस कारोबार में कई लोगों का हाथ हो सकता है। पुलिस इस जाँच में जुट गई है कि इस गोदाम का मालिक कौन है और कब से यह कारोबार चल रहा है व इसका नेटवर्क कहाँ तक फैला है।
एसडीएम वीरेंद्र सिंह ने कहा कि बिना रसीद के तेज़ाब के लेन-देन पर पूरी तरह से पाबंदी है। फिर इतनी बड़ी मात्रा में एसिड कहाँ से लाया जाता था और इन्हें कौन इतना तेज़ाब मुहैया कराता था? पुलिस हर पहलू से जाँच कर रही है।

एसिड वाले अदरक के सेवन पर डॉक्टर्स की राय:-

मेट्रो हॉस्पिटल के वरिष्ठ डॉक्टर एस चक्रवर्ती ने अनुसार,”अदरक का इस्तेमाल इसलिए अधिक किया जाता है, क्योंकि इसके कई फ़ायदे हैं। पर एसिड से धुले अदरक हमारे स्वास्थ्य पर गहरा असर डाल सकते हैं। अगर पानी में एसिड मिलाकर उसे डाइल्यूट कर अदरक की धुलाई की जा रही है तब भी यह अदरक हमारे लिए जानलेवा साबित हो सकता है।
अगर इसे रोज़ाना थोड़ी मात्रा में भी लिया गया तो हमारी किडनी में स्टोन की समस्या के अलावा हमारे ब्लड की संरचना में भी बदलाव आने का ख़तरा हो सकता है। लगातार सिरदर्द, उल्टियाँ और बदन दर्द के साथ-साथ, लॉंग टर्म इफ़ेक्ट बहुत हानिकारक है।”

तेज़ाब के सेवन से जानलेवा ख़तरा:-

तेज़ाब यानी एसिड्स अम्लीय पदार्थों को कहा जाता है। यह पदार्थ दागदार सतहों की सफ़ाई के लिए उप्युक्त माने जाते हैं। चाहे फ़र्श पर लगी टाइल्स हो या कार के शीशे, काँच के बने बर्तन या बाथरूम। जिन पदार्थों को इन तमाम वस्तुओं की सफ़ाई के लिए प्रयोग में लाया जाता है वो अक्सर एसिड्स यानी तेज़ाब ही होते हैं।

हाइड्रो क्लोरिक एसिड और नाइट्रिक एसिड्स जैसे एसिड्स हमारे शरीर को बुरे तरीके जला तक सकते हैं जबकि अन्य कई एसिड्स हमें पेट के विकारों, दस्त और चक्कर आने जैसी समस्याओं की चपेट में ला सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here