अपने देश में नौकरी करने की तरफ ज्यादा रुझान है भारतीयों का

0
154
JOB IN INDIA
फोटो: इंटरनेट से

विदेश में पढ़ाई करना और फिर वहां नौकरी करना हर किसी का सपना होता है लेकिन देखा जाए तो अब लोगों का रुझान विदेश में नौकरी करने की ओर कम हो गया है। एक रिपोर्ट के अनुसार विदेशों में जारी राजनीतिक अस्थिरता की वजह से वहां रह रही भारत की उच्च कुशलता वाली प्रतिभाएं अब देश में नौकरी करना चाहती हैं। एक आकड़ों के अनुसार, पिछले साल अमेरिका में नौकरी के लिए जाने के इच्छुक भारतीयों की संख्या में 38 प्रतिशत की कमी आई है, वहीं ब्रिटेन जाने के इच्छुक भारतीयों की संख्या 42 प्रतिशत घटी है।

अगर देखा जाए तो विदेशों में नौकरी करना किसी सपने से कम नहीं होता है लेकिन एक रिपोर्ट के अनुसार भारतीय नौकरी के लिए ब्रिटेन जाने से कतरा रहे हैं, वहीं जर्मनी और आयरलैंड जैसे देशों में नौकरी पाने के इच्छुक भारतीयों की संख्या बढ़ी हैं।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जर्मनी में नौकरी चाहने वाले भारतीयों की संख्या 10 प्रतिशत बढ़ी है, आयरलैंड जाने के इच्छुक भारतीयों की संख्या में 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। खाड़ी देश जाने के इच्छुक भारतीयों की संख्या में भी 21 प्रतिशत की कमी आई है।

इंडीड इंडिया के प्रबंध निदेशक के अनुसार, ‘‘तेजी से बढ़ती भारतीय अर्थव्यवस्था और विदेशों में राजनीतिक अस्थिरता की वजह से अत्यधिक कुशल भारतीय प्रतिभाएं देश में नौकरी ढूंढ रही हैं.’’ इस बीच, भारत में नौकरी तलाशने वालों की संख्या बढ़ रही है, भारत में नौकरी चाहने वाले ब्रिटेन गए लोगों की संख्या में 25 प्रतिशत का इजाफा हुआ है, एशिया प्रशांत क्षेत्र से भी यह रुख और ज्यादा दिखाई दे रहा है. एशिया प्रशांत से भारत में नौकरी चाहने वाले ऐसे लोगों की संख्या में 170 प्रतिशत का इजाफा हुआ है।

क्या कहते हैं आकंडें

विदेश जाने की इच्छा घटने के बावजूद अभी भी सबसे ज्यादा भारतीय अमेरिका जाना चाहते हैं. 49 प्रतिशत भारतीयों ने अमेरिका में रोजगार के लिए जाने की इच्छा जताई है। भारतीय रोजगार के लिए जिन अन्य देशों में जाना पसंद कर रहे हैं उनमें यूएई 16%, कनाडा 9%, ब्रिटेन5%, सिंगापुर 4% , आस्ट्रेलिया3 %, दक्षिण अफ्रीका 1% और बहरीन 1% शामिल हैं। इस रिपोर्ट से ही यही साबित होता है कि भारतीयों का रुझान अपने देश में ज्यादा है और हो भी क्यों ना क्योंकि अपने देश की बात ही अलग होती है हांलिकी विदेशों में उच्च तकनीकी के साथ बहुत सारी सुविधायें हैं लेकिन अपने देश की जो बात है वह और कही नहीं है इसलिये भारतीय अपने देश जाने के ज्यादा इच्छुक रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here