अब एटीएम पर मैलवयेर का खतरा, हो जाये सतर्क

0
199
ATM
प्रतीकात्मक फोटो

एक तरफ जहां टेक्नॅालाजी ने काफी तरक्की कर ली है वहीं साइबर क्राइम भी काफी बढ़ गया है। चाहे फोन, कम्पयूटर या फिर एटीमएम हर जगह साइबर क्राइम ने अपनी घुसपैठ बना रखी है। अगर एटीएम की बात करें तो इसका इस्तेमाल अधिकांश लोग करते हैं और इससे रुपये निकालने और भेजने में सुविधा भी होती है। लेकिन इसी एटीएम में साइबर अपरधियों की नजर है।

पिछले साल ही भारत में बड़े स्तर पर एटीएम फ्रॉड हुआ, लाखों कार्ड ब्लॉक किए गए और एटीएम को अपग्रेड किया गया, ध्यान देने वाली बात यह है कि अभी भी एटीएम के कंप्यूटर्स मे पुराने ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल किया गया है, एटीएम को टार्गेट करने वाले मैलवयेर नए नहीं हैं। लेकिन अब एक बहुत बड़ी परेशानी सामने आ गयी है क्योंकि साइबर सिक्योरिटी फर्म Kaspersky Lab ने एक नया मैलवेयर ATMii ढूंढा है इस बात की जानकारी Kaspersky के ब्लॉग में कहा गया है, ‘कुछ क्रिमिनल एटीएम में विस्फोट करके कैश चुराते हैं,और पैसे उड़ाते हैं और इनमें मैलवेयर अटैक शामिल है,और अब इस लिस्ट में Backdoor.Win32.ATMii नया मैलवेयर जुड़ गया है’

सबसे परेशानी की बात यह है कि यह मैलवयेर Windows 7 और Widows Vista वाले एटीएम को टार्गेट कर सकता है। अप्रैल 2017 में सबसे पहले इस मैलवयेर के बारे में पता चला था

कैसे काम करता है

इस मैलवेयर को इस्तेमाल करने के लिए क्रिमिनल्स को एटीएम में डायरेक्ट ऐक्सेस की जरूरत होती है, डायरेक्ट ऐक्सेस यानी एटीएम के पास जा कर किसी तरह से मैलवेयर डालना होता है या फिर एटीएम नेटवर्क के जरिए मैलवेयर इंजेक्ट किया जाता है, अगर ऐसा करने में क्रिमिनल सफल होते हैं तो ATMii मैलवेयर की वजह से एटीएम में रखे पूरे कैश निकाले जा सकते हैं।

Kaspersky Lab के सिनियर डेवेलपर ने इस मैलवेयर के बारे में कहा है कि यह एटीएम के दूसरे मैलवेयर के मुकाबले थोड़ा कमजोर है, हालांकि इस छोटे कोड से एटीएम में बड़ा नुकसान किया जा सकता है और एटीएम के पूरे कैश एक बार में ही निकाले जा सकते हैं।

कैसे रोक सकते हैं

Kaspersky के मुताबिक इस तरह के अटैक से बचने के लिए डिफॉल्ट डिनाइ पॉलिसी और डिवाइस कंट्रोल जैसे सिक्योरिटी मेजर्स लेने होंगे, पहला तरीका क्रमिनल्स को एटीएम के इंटरनल कंप्यूटर में अपना कोड रन करने से रोकता है जबकि दूसरा मशीन में दूसरे डिवाइस जैसे यूएसबी स्टिक को कनेक्ट करने से रोकता है।

एटीएम के इस मैलवेयर की वजह से कई लोगों का भारी नुकसान हो सकता है, लेकिन साइबर सिक्येरिटी इस मामले से निपटने के लिये काफी प्रयास कर रहे है कि इससे कैसे बचें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here