एनडीटीवी पर लगा 27 करोड का जुर्माना, जानिए वजह

0
370

एनडीटीवी किसी समय का भारत का एक जाना माना चैनल है लेकिन फिलहाल एनडीटीवी के सितारे गर्दिश में नजर आ रहे हैं। एनडीटीवी की पहचान रवीश कुमार के शो प्राइम टाइम से है । पिछले कुछ सालों से एनडीटीवी को वही लोग देखना पसंद करते हैं जो मोदी विरोधी है। एनडीटीवी के प्रमुख पत्रकार रवीश कुमार जनता के सामने पूरी तरह से एक्सपोज हो चुके हैं ।लेकिन अब एनडीटीवी की मुसीबत और भी बढ़ गई है। हाल ही में सेबी ने एनडीटीवी पर एक बड़ी कार्रवाई की है, जिसके चलते उस पर 25 करोड का जुर्माना और उसके प्रमुख स्वामी प्रणय रॉय पर एक करोड़ और उनकी पत्नी राधिका रॉय पर भी 1 करोड का जुर्माना लगाया है।

किसान आंदोलन के जरिये हिंदू धर्म को बदनाम करने की साजिश,देखें वीडियो

दरअसल सेबी ने बताया कि एनडीटीवी ने आईसीआईसीआई बैंक से लोन लिया था ,लेकिन यह सूचना अपने शेयरधारकों से छुपाई। जो कि सेबी के नियमों का उल्लंघन है अपने शेयरधारकों को धोखा रखने के चलते सेबी ने एनडीटीवी पर कार्रवाई करते हुए या बड़ा जुर्माना उस पर लगाया । सेबी ने बताया कि एनडीटीवी और आईसीआईसीआई बैंक के बीच 2008 में लोन को लेकर एक समझौता हुआ था। लेकिन यह खबर एनडीटीवी ने अपने शेयरधारकों से छुपाई और उन्हें अंधेरे में रखा। इसके अलावा एनडीटीवी ने 2009 और 10 में 350 करोड़ और 50 करोड़ के लोन वीसीपीएल से भी ले रखा है । इससे पहले भी एनडीटीवी के खिलाफ धांधली करने का आरोप लग चुका है जिसे चलते उसे 16.97 करोड रुपए का जुर्माना भरना पड़ा था ।

पिछले कुछ दिनों से समाचार चैनलों पर जमकर कार्रवाई की जा रही है ।हाल ही में अर्णब गोस्वामी के रिपब्लिक भारत टीवी पर पाकिस्तान के खिलाफ खबर चलाई जाने के कारण 2000000 रुपए का जुर्माना लगाया था ।और फिर टीआरपी केस में भी सभी चैनलों के खिलाफ जांच जारी है। अगर बात की जाए आज के टाइम के प्रमुख समाचार चैनलों की रिपब्लिक भारत ,आज तक और एबीपी न्यूज़ इन में शामिल है । तो वही समय के साथ एनडीटीवी जैसे चैनल अपनी पहचान खोते जा रहे हैं। एनडीटीवी अक्सर एकतरफा न्यूज़ चलाने और फेक न्यूज़ फैलाने के लिए ट्रोल भी होता रहा है। इतना ही नहीं दिल्ली दंगों में शाहरुख को अनुराग मिश्रा बता रवीश कुमार ने अपनी और अपने चैनल की किरकिरी कराई थी । यह पहला मौका नहीं है जब एनडीटीवी ने इतनी बड़ी गलती की हो अक्सर वो ऐसी गलतियां करते रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here