रुकने का नाम नहीं ले रहा स्कूलों में रेप का सिलसिला, खुली सुरक्षा इंतेज़ामों की पोल

0
285
rapes in school
स्कूलों में बच्चों के साथ हादसों मे बढ़ोतरी हो रही है।

मासूम बच्चों से उनके ही स्कूल में रेप की घटनाएँ हो रही है। इससे फिर स्कूलों में सुरक्षा खामियों की पोल खुल गई है। 4 अक्टूब को मालवीय नगर के संत निरंकारी पब्लिक स्कूल में कक्षा एक में पढ़ने वाली छह साल की बच्ची से दुष्कर्म का मामला सामने आया। इस हादसे से बच्ची के घरवालों का स्कूल से ही भरोसा उठ गया।

उसके पिता ने कहा, ‘हमारी बच्ची इतनी डरी हुई है कि किसी से बात नहीं करना चाहती। हम अपनी बेटी को अब उस स्कूल में कभी नहीं भेजेंगे।’

स्कूल का स्वीपर है आरोपी-

rape in school
बच्ची स्कूल के इसी महिला टॉइलेट में गई थी जहाँ स्वीपर ने उसके साथ गंदी हरकत की।

बलात्कार का आरोपी कोई और नहीं बल्कि स्कूल का स्वीपर(राकेश) है। आरोपी के खिलाफ़ आईपीसी की धारा-376 और पोक्सो ऐक्ट के तहत एफ़आईआर दर्ज की गई है।

मामला बुधवार(4 अक्टूबर) दोपहर करीब 1 बजे का है। बच्ची स्कूल के महिला टॉइलेट में गई थी। आरोप है कि उसी वक्त राकेश भी भीतर चला गया और उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया। बच्ची ने घर जाकर अपनी माँ को बताया तो मामले का खुलासा हुआ।

यह कोई पहला मामला नहीं है जहाँ स्कूल में खामियाँ देखने को मिली हो। पिछले एक महीने के अंदर कई स्कूली बच्चों के साथ उन्ही के स्कूल में दुष्कर्म व हादसे के कई मामले सामने आए हैं।

गांधी नगर के टैगोर पब्लिक स्कूल में बलात्कार-

rape in school
बच्ची के साथ हुआ बलात्कार।

दिल्ली के गांधी नगर में पिछले महीने सितंबर को टैगोर पब्लिक स्कूल में पाँच साल की छात्रा से बलात्कार हुआ।
इस पर अफ़सोस जताते हुए दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए नए सिरे से गाइडलाइंस जारी करने की बात कही।

40 वर्षीय चपरासी निकला आरोपी-

केवल चपरासी ही नहीं बल्कि स्कूल प्रशासन की लापरवाही भी सामने आई। आरोपी चपरासी तीन साल से स्कूल में काम कर रहा था, लेकिन अब तक उसका कोई पुलिस वेरिफ़िकेशन नहीं कराया गया था। स्कूल की इस ग़लती का खामियाज़ा एक बच्ची को भुगतना पड़ा।

प्रद्युम्न हत्याकांड-

Pradyumna Murder
रयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के मासूम प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या हुई।

पिछले महीने सितंबर में, गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युम्न की हत्या भी स्कूल प्रशासन की लापरवाही का नतीजा है।
स्कूल प्रशासन की अनदेखी के कारण ही बच्चों और स्टाफ के इस्तेमाल में आने वाले बाथरूम का इस्तेमाल बस ड्राइवर और कंडक्टर भी करते रहे। यहाँ तक कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने सुप्रीम कोर्ट में माना है कि प्रद्युम्न की हत्या का कारण स्कूल प्रशासन का लापरवाह रवैया भी है।

राजस्थान के स्कूल में रेप के बाद अबॉर्शन भी कराया:-

rape in school
आरोपी एक्सट्रा क्लास के बहाने बच्ची से रेप किया करते थे।

सितंबर में राजस्थान के स्कूल में 18 साल की स्टूडेंट के साथ बलात्कार का मामला सामने आया। आरोप है कि स्कूल डायरेक्टर और एक टीचर ने लड़की को एक्स्ट्रा क्लास के बहाने बुलाकर दो महीने तक रेप किया।

इतना ही नहीं जब वह गर्भवती हो गई तो डॉक्टर्स के साथ मिलकर उसका अबॉर्शन भी करा दिया गया। इस हादसे के बाद पीड़ित ने स्कूल छोड़ दिया।

स्कूल में बच्चे भविष्य सँवारने जाते है, लेकिन कई स्कूल बस फ़ीस लेकर अपनी ज़िम्मेदारियाँ भूल जाते है और बच्चों की सुरक्षा को अनदेखा करते है। इनकी लापरवाही के कारण बच्चों के साथ हादसे होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here