जानिये कभी ना रुकने वाले डीन करनाज़ेस के बारे में

0
139
dean karnazes
डीन करनाज़ेस

वैसे तो आपने कभी ना कभी लम्बी रेस ज़रूर लगाई होगी, पर एक वक़्त के बाद तो हर कोई हार मान लेता है। पर आज जिस शख्स के बारे में हम बात करने वाले हैं व कभी नहीं रुकते बस दौड़ते रहते हैं,हम बात कर रहे हैं डीन करनाज़ेस की| डीन अमेरिका के अल्ट्रा मैराथन खिलाडी हैं। दुनिया के ढेर सारे रिकार्ड्स डीन अपने नाम कर चुके हैं। उन्होंने धरती में सबसे गरम व ठंडी जगहों में मैराथन भी जीते हैं।

डीन की पत्नी का कहना है डीन को दौड़ना बहुत पसंद है और वह कभी थकते भी नहीं हैं। अनेक डॉक्टर डीन के शरीर को परख चुकें हैं की ऐसा क्या है जिससे डीन कभी नहीं थकते और हमेशा दौड़ते रहते हैं। पर किसी को आज तक ये समझ नहीं आया| डीन एक पेशेवर मैराथन खिलाडी हैं और व अपने नाम ढेर सारे रिकार्ड्स कर चुके हैं। जिन में सबसे बड़ा रिकॉर्ड जो डीन ने अपने नाम किया है वो 80 घंटे में 350 की म दौड़कर वो भी लगातार बिना नींद लिए हुए।

ये रहे कुछ ऐसे खिताब जो डीन अपने नाम कर चुके हैं

बैड वाटर अल्ट्रा मैराथन में 219 की म दौड़कर व इस मैराथन को जीते
रेगिस्तान रेस में 2008 में जीते
2004 में एक ट्रेडमिल पर 238 km दौड़कर एक अनोखा रिकॉर्ड बनाया
50 दिनों में 50 राज्यों में दौड़कर एक हैरान करने वाला रिकॉर्ड बनाया

डीन का अगला सपना जो वो पूरा करना चाहते हैं
डीन के सपने कभी थमते नहीं। वह हमेशा नए नए खिताबों को सोचकर उन्हें पूरा करने के लिए ठान लेते हैं।
डीन का अगला सपना है कि वो पूरी दुनिया के हर मैराथन में दौड़ना चाहते हैं और उन्हें जीतना चाहते हैं।
डीन का ये सपना सुनकर तो हर शख्स ये ही कहेगा की ये असंभव है पर डीन के लिए शायद इस दुनिया में कोई चीज़ मुश्किल नहीं जिस तरीके से उन्होंने इतने ज्यादा खिताब अपने नाम जीते हैं।

डीन के नाम इतने ज्यादा खिताब हैं अगर उनके बारे में आप पढ़ें तो आपको रात हो जायेगी पढ़ते पढ़ते| वह कभी रुकने का नाम नहीं लेते और बस हमेशा दौड़ते रहते हैं। डीन ने बताया की वह अपनी गलतिओं से हमेशा सीख लेते हैं और कभी रुकने का नाम नहीं लेते।

डीन की उम्र अभी 55 साल है और इस उम्र में तो हर शख्स हार मान लेता है थोड़ा दौड़ने से और डीन तो रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बना रहे हैं। डीन सिर्फ अपने लिए नहीं पुरे विश्व को सन्देश दे रहे हैं इस दुनिया में कोई चीज़ असंभव नहीं हैं और हमेशा हमें अपने सपनों का पीछा करते रहने चाहिए जब तक वह मिलता नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here