जसप्रीत बुमराह की यॉर्कर की कहानी जो हर अविश्वसनीय फास्ट गेंदबाज को प्रेरित करेगी!

0
179
jaspreet bumrah yorker story
जसप्रीत बुमराह

भारत के तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह जो श्रीलंका दौरे पे सबसे ज्यादा विकेट्स लेने में कामयाब हुए उनकी गेंदबाज़ी और खासकर यॉर्कर की आजकल हर जगह खूब तारीफ़ हो रही है | आखिर क्या है उनकी यॉर्कर गेंद का सच !आखिर कैसे हुए वो यॉर्कर गेंद डालने में इतने माहिर ?

जब वह छोटे थे , बूमराह अपने घर के अंदर एक गेंद के साथ  खेला करते थे। दोपहर के दौरान जब सूर्य बाहर निकलता था तो वह बहार जाने के बावजूद घर में खेलना पसंद करते थे , उनकी मां दलजीत बुमराह ने उनके लिए एक शर्त रखी थी, वह उन्हें बिना शोर किये हुए खेलने को बोलती थी ताकि वो झपकी ले सकें

और 12 वर्षीय ने उसको फर्श की ढक्कन (जहां दीवार को फर्श मिलता है) वहां निशाने बनाने की सोची की । वह गेंद को सीधा उस निशाने पर मारते थे ताकि ध्वनि भी कम आये और उनका अभ्यास भी हो जाए।

jaspreet bumrah yorker story
जसप्रीत बुमराह

दोनों माँ बेटे की जोड़ी अनजान थी कि यह ‘प्रशिक्षण’ जसप्रित को एक दिन भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल करने में मदद करेगा।दोनों मां-बेटे को पता नहीं था कि यह ‘प्रशिक्षण’ 14 साल की उम्र में जसप्रित को मददगार साबित करेगा, उन्होंने अपनी मां को एक गेंदबाज बनने की इच्छा व्यक्त की और उनसे विश्वास करने के लिए कहा। एकमात्र माता-पिता और एक स्कूल प्रिंसिपल होने के नाते उनकी मां थोड़ा आशंकित थीं लेकिन वह जसप्रीत पर पूरा विश्वास रखती थी ।

इसके बाद, उन्हें गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा आयोजित एक आधिकारिक के लिए हर शिविर – ग्रीष्मकालीन शिविरों के लिए चुना गया। उन्हें एमआरएफ पेस फाउंडेशन और राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी के क्षेत्रीय शिविर के लिए भी चुना गया था।

2013 में जब उन्होंने मुंबई इंडियंस के लिए अपना पहला मैच खेला और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ 32 रनों के लिए शानदार तीन विकेट लिए, और उसके बाद तो बुमराह कभी रुके ही नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here