कुछ ऐसे खेल जो याद दिलाएंगे आपको अपने बचपन की

0
734
गली के खेल

बचपन भी क्या चीज़ है ना जब हम इस अवस्था में होते है तब इसका एक अपना ही मज़ा होता है। हर चीज़ इतनी मज़ेदार लगती है की हम पूरी तरह उस चीज़ में घुल -मिल जाते है। बचपन की हर याद जब बड़े होकर हमे आती है तो हम यही सोचते हैं की हमारी जिंदगी में शायद यह दिन फिरसे आजायें।आज के युग की बात करें तो सब अपने घर में मोबाइल पर गेम्स खेलने में व्यसत हैं जिसमे न तो कोई फिज़िकल कार्य हो रहा है और ना ही कुछ ज्ञान मिल रहा है। अगर बात करें आज से 10 साल पहले की तो तब खेल कुछ और ही होते थे, अगर हम आज उस बारे में सोचे तो वो खेल आज के खेलों से काफी गुना अच्छे थे।

ये रहे वो खेल जो आपने बचपन में ज़रूर खेले होंगे :-

लगोरी और पिठू

lagori and pithu
लगोरी और पिठू

इस खेल में कुछ पत्थर एक के उपर एक रखे जाते है, जिसके बाद एक टीम का सदस्य उन पत्थरों को गेंद से गिराता है और उसके बाद दूसरी टीम का खिलाड़ी उन पत्थरों को वापस एक उपर एक रखता है ,अगर उस खिलाड़ी ने पत्थर एक के उपर रख दिए तो वह टीम जीत जाती है और अगर पत्थर लगाते समय दूसरी टीम के खिलाड़ी ने उसकी पीठ पर गेंद फेंक दी तो गेंद मारने वाली टीम जीत जाती है।

चेन-चेन

chain chain game
चेन-चेन

गेम में एक खिलाड़ी होता है जिसका उद्देश्य अन्य खिलाड़ियों को पकड़ना है। एक बार उस खिलाड़ी ने अन्य खिलाड़ी को पकड़ लिया , तो खिलाड़ी एक श्रृंखला का हिस्सा बन जाता है (जो हाथ पकड़े हुए होता है) और फिर शेष खिलाड़ियों को पकड़ने में मदद करता है।

गिल्ली डंडा

gilli danda
गिल्ली डंडा

गिल्ली डंडा भारत में एक बहुत लोकप्रिय खेल है। इसमें एक गिल्ली एक डंडा होता है और एक बारी में एक खिलाड़ी गिल्ली के कोने से मारकर कर उसे उपर उछालता है और डंडे से दूर तक फेंकता है।

खो खो

kho kho
खो -खो

इस खेल में दोनों दलों के खिलाड़ी एक दूसरे की विरुद्ध दिशाओं की ओर मुँह करके अपने अपने नियत स्थान पर बैठ जाते हैं। प्रत्येक दल को एक-एक पारी के लिए सात सात मिनट दिए जाते हैं और नियत समय में उस दल को अपनी पारी समाप्त करनी पड़ती है। दोनों दलों में से एक-एक खिलाड़ी खड़ा होता है, पीछा करने वाले दल का खिलाड़ी विपक्षी दल के खिलाड़ी को पकड़ने के लिए सीटी बजाते ही दौड़ता है। विपक्षी दल का खिलाड़ी पंक्ति में बैठे हुए खिलाड़ियों का चक्कर लगाता है। जब पीछा करने वाला खिलाड़ी उस भागने वाले खिलाड़ी के निकट आ जाता है, तब वह अपने ही दल के खिलाड़ी के पीछे जाकर ‘खो-खो’ शब्द का उच्चारण करता है तो वह उठकर भागने लगता है और पीछा करने वाला खिलाड़ी पहले को छोड़कर दूसरे का पीछा करने लगता है।

मारम पिट्टी

maram pitti
मारम पिट्टी

एक टीम के खिलाड़ी एक गेंद के साथ विरोधी टीम के खिलाड़ियों को हिट करने की कोशिश करते हैं (आमतौर पर स्पंज से बना होता है) एक बार खिलाड़ी मारा जाता है, वह खेल से बाहर है। एक ही टीम के खिलाड़ियों के बीच में जाने की भी अनुमति है।

 विष अमृत

vish amrit
विष अमृत

इस खेल में एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को विष देकर एक जगह स्थिर रहने को कहता है और दूसरे खिलाड़ी जब तक उस व्यक्ति को छूकर अमृत न बोल दे तब तक वह स्थिर ही रहता है और जब दूसरे खिलाड़ी ने अमृत कर दिया और वह पकड़ा न गया तो सामने वाली टीम जीत जाती है।

चोर सिपाही

chor sipahi
चोर सिपाही राजा बजीर

इस खेल में एक राजा ,चोर , सिपाही और एक मंत्री होता है। कुछ कागज के टुकड़ों पर ये सब नाम लिखकर उन्हें उछाला जाता है और जिसे राजा आता है वो पूछता है की मेरा मंत्री कौन तो मंत्री बताता है की चोर कौन है और सिपाही कौन है अगर उसने गलत बताया तो उसके अंक काट दिए जाते है।

पेन फाइट

पेन फाइट
पेन फाइट

इस खेल में तीन या चार लोग अपने पेन से एक दूसरे के पेन को हिट करते है और टेबल से निचे गिराने का प्रयास करते है।

स्टापू

स्टापू
स्टापू

स्टापू एक लोकप्रिय खेल का मैदान है जिसमें खिलाड़ियों को जमीन पर चिह्नित आयत के एक पैटर्न के गिने स्थान में एक छोटी वस्तु फेंकनी होती है और फिर ऑब्जेक्ट को पुनः प्राप्त करने के लिए एक या दो पैरों पर रिक्तियों पर कूदना होता है।

लंगड़ी

लंगड़ी
लंगड़ी

लंगड़ी एक लोकप्रिय खेल है, खासकर महाराष्ट्र राज्य में। खेल में दो टीमें हैं, विरोधी टीम एक खिलाड़ी को कई रक्षकों को टैग करने के लिए भेजती है, जबकि वह एक पैरों पर छलांग लगा सकता है।

इन खेलों से ही तो हमारी बचपन की यादें जुड़ीं है और हमे यह सब अभी भी बहुत याद आता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here