अंटार्कटिका की गर्म गुफाओं में संभव हो सकती है जीवो की रहस्मयी दुनिया

0
149
Antarctica hot caves
प्रतीकात्मक फोटो

अंटार्कटिका की दुनिया वैज्ञानिकों की खोज के लिये एक रहस्मयी दुनिया है, अंटार्कटिका में वैज्ञानिकों की खोज लगातार जारी है। इसी खोज के परिणाम स्वरुप वैज्ञानिकों का मानना है कि अंटार्कटिका ग्लेशियरों के भीतर गर्म गुफाओं में जीव जन्तुओं और वनस्पतिओं की रहस्मयी दुनिया हो सकती है।

शोध के मुताबिक माउंट इरेबस की अधिकतम गुफाओं से मिले डीएनए अंटार्कटिका में अन्य जगहों पर पाए जाने वाले शैवाल, अकशेरुकी जीवों सहित पेड़ों और जानवरों के डीएनए से मिलते जुलते हैं और इसलिये वैज्ञानकिों का मानना है कि अंटार्कटिका ग्लेशियरों के भीतर इन गर्म में एक अलग रहस्मयी दुनिया हो सकती है। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन के मुताबिक अंटार्कटिका के रोस द्वीप में सक्रिय ज्वालामुखी माउंट इरेबस के चारो-तरफ के भाग में झरनों के बहाव ने बड़ी गुफा का जाल बना दिया है। और इन गुफाओं से मिले मिट्टी के नमूनों के अध्ययन में शैवाल, मॅास और छोटे जन्तुओं के अंश मिले हैं।

एएनयू फेनर स्कूल ऑफ इंन्वॉयरमेंट एंड सोसाइटी के शोध के अनुसार, ‘‘गुफाएं अंदर बेहद गर्म हो सकती हैं, कुछ गुफाओं में तापमान 25 डिग्री सेल्सियस तक भी हो सकता है आप वहां टी शर्ट भी पहन कर आराम से रह सकते हैं।’’ पोलर बायोलॉजी जनरल में प्रकाशित अध्ययन में एक प्रमुख शोधकर्ता ने यह बताया कि ‘‘गुफा के मुहाने में रोशनी है और कुछ गुफाओं में जहां बर्फ की पर्त पतली है वहां अंदर की ओर रोशनी के फिल्टर्स हैं.’’ उन्होंने कहा कि इस अध्ययन से एक झलक मिलती है कि अंटार्कटिका की बर्फ के अंदर क्या हो सकता है, वहां वनस्पतियों और जंतुओं की नई प्रजातियां भी मौजूद हो सकती हैं. ’’ और उन्होनें यह भी कहा कि , ‘‘ अगला कदम गुफाओं को अधिक नजदीकी से देखना और किसी जीवित जीव जन्तु की तलाश करना है, और यदि वहां इस तरह के जीव जन्तु भी मौजूद हैं तो इससे एक नई दुनिया का पता लग सकता है।

इस अध्ययन की खोज पोलर बायोलॉजी जनरल में प्रकाशित हुयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here