आकाशगंगा के केंद्र के पास ब्लैक होल मिलने का अनुमान

0
287
scientist found big black hole in Galaxy
प्रतीकात्मक फोटो

देश भर के वैज्ञानिक हमारे सौर मण्डल से जुडी खोजों में लगे रहते हैं, इसी खोज के दौरान कीओ यूनिवर्सिटी के अंतरिक्षयात्री तोमोहारू ओका ने ‘आकाशगंगा में मध्यम द्रव्यमान वाले ब्लैक होल की पहली पहचान होने का दावा किया है लेकिन इस बात की पूरी तरह से नहीं की गयी है। यदि इस बात की पुष्टि हो जाती है तो यह आकाशगंगा में पाया जाने वाला दूसरा सबसे बड़ा ब्लैकहोल होगा।

सौर मण्डल आकाशगंगा के बाहरी इलाक़े में स्थित है और आकाशगंगा के केंद्र की परिक्रमा कर रहा है, इसे एक पूरी परिक्रमा करने में लगभग २२.५ से २५ करोड़ वर्ष लग जाते हैं।आकाशगंगा सौर मंडल की के केंद्र के पास मिलने वाले यह बड़ा सा ब्लैकहोल जहरीली गैस के बादल से घिरा हुआ पाया गया है। इससे बड़ा ब्लैकहोल सैगीटेरियस ए है, जो कि तारामंडल के बिल्कुल केंद्र में स्थित है.इसे एक पूरी परिक्रमा करने में लगभग २२.५ से २५ करोड़ वर्ष लग जाते हैं।

जापान की कीओ यूनिवर्सिटी के अंतरिक्षयात्री चिली में अल्मा टेलीस्कोप का इस्तेमाल करके गैसों के एक बादल का अध्ययन कर रहे थे और उसकी गैसों की गति को समझने का प्रयास कर रहे थे, उन्होंने पाया कि दीर्घवृत्ताकार बादल के अणु बेहद तीव्र गुरूत्वीय बलों द्वारा खींचे जा रहे थे। यह बादल आकाशगंगा के केंद्र से 200 प्रकाशवर्ष दूर था और 150 खरब किलोमीटर के दायरे में फैला था।

कंप्यूटर मॉडलों के अनुसार, इसका सबसे अधिक संभावित कारण एक ब्लैक होल है, जो 1.4 खरब किलोमीटर से अधिक का नहीं है,वैज्ञानिकों ने बादल के केंद्र से आने वाली रेडियो तरंगों की भी पहचान की। ये तरंगें ब्लैक होल की मौजूदगी का संकेत देती हैं। फिलहाल अभी तो इस बात की पुष्टि होने में थोडा समय है लेकिन यदि ऐसा है तो सौर मण्डल और आकाशगंगा पर अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों के लिये एक बेहतरीन खोज होगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here