तलाक़ में 6 महीने का कूलिंग पीरियड ख़त्म –सुप्रीम  कोर्ट

1
122
divorce act of hindu
तलाक़ में 6 महीने का कुलिंग पीरियड ख़त्म

हाल ही में दिए गये एक अहम् निर्णय में सुप्रीम कोर्ट ने कहा की परिस्थितिया अगर बेहतर होने लायक नही है तो 6 महीने का कूलिंग पीरियड को समाप्त किया जा सकता है। यह निर्देश उस समय आया जब महिलाओ के लिए बड़े पैमाने पर भारत सामाजिक सुधार चल रहे है।

बता दे की हिन्दू मैरिज एक्ट के तहत तलाक़ की अपील दायर करने के बाद 6 महीने के कूलिंग पीरियड का प्रावधान धारा 13बी(2) में है, जिसके तहत यह कोशिश की जाती है की पति पत्नी के बीच समझौता हो सके और इस रिश्ते को बचाया जा सके।

पर इस मुद्दे की सुनवाई करते हुए जस्टिस आदर्श कुमार गोयल और यूयू ललित की पीठ ने कहा की यही पति पत्नी अपनी सहमती से तलाक़ ले रहे हो या पत्नी पर अत्याधिक सामाजिक दबाव हो, तो ऐसी परिस्थिती में तलाक़ की इस लम्बी प्रक्रिया को वहन नही किया जा सकता। देर से मिला हुआ न्याय, न्याय नही होता।

आगे बढ़ते हुए न्यायधीश ने कहा, उन पुराने कानूनों को बदलने की जरूरत है, जो हमारी आधी आबादी को पीछे धकेल रहे है। शादी हमारी संस्कृति का अहम् हिस्सा है, जिसके चलते महिलाये हमेशा अपने अधिकारों को लेकर सामजिक दवाब में रहती है। यह फैसला बेशक उनके लिए राहत लेकर आयेगा तथा कोर्ट का यह फैसला स्वागत भी योग्य है।

1 COMMENT

  1. Hi there, just became alert to your blog through Google, and found that it’s truly informative.
    I am going to watch out for brussels. I?ll be grateful if you continue this in future.

    Numerous people will be benefited from your writing.
    Cheers!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here