नहीं रहे ‘जाने भी दो यारों’ के निर्देशक कुंदन शाह, जाने उनके ज़िंदगी के अनछुए पहलू

0
222
kundan shah
कुंदन शाह का  दिल का दौरा पड़ने से 69 की उम्र में निधन

मशहूर फ़िल्म डायरेक्टर व राइटर कुंदन शाह का, शनिवार 7 अक्टूबर को दिल का दौरा पड़ने से, 69 की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने मुंबई स्थित बांद्रा इलाके में अपने घर पर अंतिम साँसे ली।

फ़िल्म मेकर अशोक पंडित ने श्रद्धांजलि दी:-

कुंदन शाह की मृत्यु की खबर के बाद, फ़िल्म मेकर अशोक पंडित ने अपने ट्विटर अकाउंट पर कुंदन शाह की तस्वीर शेयर करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

हर किसी की तरह उनके ज़िंदगी मे भी कई मोड़ आए। आइए नज़र डालते हैं उनकी ज़िंदगी के कुछ अहम बातों के बारे में-

kundan shah
उन्हें हँसी मज़ाक का काफ़ी शौक था।

1. उन्हें जाने भी दो यारों फ़िल्म के लिए ‘बेस्ट फर्स्ट फ़िल्म ऑफ ए डायरेक्टर’ का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था।

2. उन्होंने 1986 में ‘नुक्कड़’ धारावाहिक के साथ टेलीविज़न की दुनिया में शुरुआत की। 1988 में उन्होंने मशहूर धारावाहिक ‘वागले की दुनिया’ का निर्देशन किया, जो कॉर्टूनिस्ट आर के लक्ष्मण के आम आदमी के किरदार पर आधारित थी।

3. कुंदन शाह ने ‘जाने भी दो यारों’, ‘खामोश’, ‘हम तो मोहब्बत करेगा’ और ‘पी से पीएम तक’ जैसी कई फिल्मों को डायरेक्ट किया।

4. कुंदन शाह ऐसे निर्देशक थे, जिन्‍होंने भारतीय सिनेमा में पहली बार व्‍यंग्‍यात्‍मक कॉमेडी को लोगों के सामने रखा।

5. कुंदन शाह ने शाहरुख खान से लेकर प्रीति जिंटा तक कई बड़े स्टार्स के साथ काम किया।

6. उन्हें हँसी मज़ाक का काफ़ी शौक था, एक इंटरव्यू में कुंदन शाह ने कहा कि क्या है न कि कुछ लोगों का नज़रिया ही तिरछा होता है। मैं उन्हीं लोगों में से हूँ, जो हर चीज को ज़रा तिरछे फ्रेम में फिट करके देखता हूँ।

7. कुंदन शाह एफ़टीआई (फ़िल्म ऐंड टेलीविज़न इंस्‍टिट्यूट) पुणे के स्टूडेंट रहे हैं।

8. शाह ने 2015 में अपने पूर्व संस्थान एफ़टीआई में छात्र विरोध प्रदर्शन के दौरान राष्ट्रीय पुरस्कार लौटा दिया था।

9. उनकी आखिरी फ़िल्म ‘पी से पीएम तक’ साल 2014 में रिलीज़ हुई थी।

यक़ीनन कुंदन शाह को हमेशा उनकी फ़िल्म जाने भी दो यारों के चलते याद किया जाता है और हमेशा रहेगा। देखिए उनकी फ़िल्म ‘जाने भी दो यारो’ के सबसे मज़ेदार सीन्स-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here