डोकलाम पर ऐसे सुलझा भारत – चीन विवाद

0
297
INDIA AMBESSDOR STATEMENT ON DOKLAM
एशिया के दो महाशक्तियों ने सुलझाया विवाद

भारत – चीन के बीच चल रहे डोकलाम विवाद में काफी तनाव आऩे के बावजूद बिना एक गोली चले ये विवाद थम गया। एशिया की दो महाशक्तियों के बीच जारी तनातनी आखिर कैसे अचानक शांत हो गई, इस रहस्य पर से अब पर्दा उठ गया है। दरअसल दोनों महाशक्तियों के बीच एक गुप्त समझौते के तहत दोनों देश अपनी सेना पीछे हटाने को सहमत हो गये थे। आपको बता दें कि दोनों देशों के बीच लगभग दो महिने चले इस विवाद में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की भूमिका काफी अहम रही। इस पूरे मामले में इन दोनो नेताओँ ने चुप्पी साध रखी थी। आईये आपको बताते हैं कि कैसे युद्द के लिए आतुर चीन ने डोकलाम से अपने सैनिक वापिस बुला लिये।

डोकलाम पर भारत की कूटनीतिक जीत

IMPORTANCE OF DOKLAM FOR INDIA
भारत- चीन के बीच लंबे समय से जारी है डोकलाम विवाद

भारत शुरु से ही डोकलाम विवाद को लेकर काफी संयम बरत रहा था। बीजेपी के नेता भी इस मामले पर संभल कर बयान दे रहे थे।ऐसे में इस शांतिपूर्ण हल को भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा रहा है। एक अंग्रेजी अखबार में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शी चिंनपफिंग की आपसी बातचीत के बाद चीन में भारत के राजदूत विजय गोखले को 27 अगस्त की शाम को बीजिंग बुलाया गया। हालांकि गोखले उस वक्त हांग-कांग में थे, लेकिन मसला गंभीर होने की वजह से वो आनन-फानन में बीजिंग गये। देर रात बीजिंग पहुंचने के बाद रात करीब 2 बजे चीनी विदेश मंत्रालय के साथ मीटिंग हुई । लगभग तीन घंटे तक चली इस मीटिंग के बाद फैसला लिया गया कि दोनों देशों के सैनिक पीछे हटेंगे।

डोकलाम विवाद की वजह

डोकलाम क्षेत्र सिक्किम के पास भारत-चीन-भूटान ट्राइजंक्शन पर स्थित है।यह इलाका भूटान की सीमा में पड़ता है, लेकिन चीन इसे डोंगलोंग प्रांत बताते हुए अपना दावा करता है। इसे इलाके को लेकर भारत की आपत्ति है। भारत अपनी सरहदों की सुरक्षा को लेकर कई बार चीन के सामने अपनी आपत्ति दर्ज करा चुका है। लगभग 73 दिन पहले भी जब जून में चीनी सैनिकों ने डोकलाम के पास सड़क बनाने की कोशिश शुरु की तो भारत ने इसका विरोध शुरु कर दिया। दरअसल भारत इस इलाके को  ‘चिकन नेक’  के नजदीक का इलाका होने की वजह से अपनी सुरक्षा से जोड़ रहा है।ये इलाका सामरिक रूप से भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here