क्या भारत बनेगा अगले दस सालों में विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था?

0
223
HSBC BANK REPORT
एचएसबीसी की रिपोर्ट

अगले दस सालों में भारत विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। भारत अगर अपनें आर्थिक सुधार की प्रक्रियाओं को निरंतर जारी रखता है तो तो अगले दस वर्षो में वह जापान और जर्मनी को पछाड़ कर विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। एक अध्ययन के मुताबिक़ इसके लिए आवश्यक है कि भारत अपनें सुधारों की दिशा सामाजिक क्षेत्र की तरफ़ बनाएं रखे।

ब्रिटिश ब्रोकरेज एजेंसी एचएसबीसी (हॉन्ग कॉन्ग ऐंड शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन) ने अपने एक ताजा अध्ययन में माना है कि देश में सामाजिक पूंजी का सर्वथा अभाव है।

– भारत को स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में व्यापक खर्च की आवश्यकता है।

– यह केवल देश के अपने लिए ही नहीं बल्कि आर्थिक विकास और राजनीतिक स्थिरता के लिए भी बेहद आवश्यक है।

 एचएसबीसी (हॉन्ग कॉन्ग ऐंड शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन) की रिपोर्ट

एचएसबीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को ईज ऑफ डूईंग बिजनेस के क्षेत्र में अभी काफी कुछ करने की आवश्यकता है। रिपोर्ट के मुताबिक आने वाले दस वर्षो में भारत की अर्थव्यवस्था का आकार जापान और जर्मनी से बढ़ जाएगा। ऐसा होते ही देश की अर्थव्यवस्था दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगी।

– परचेजिंग पावर पैरिटी के मामले में तो यह और पहले हो सकता है। हालांकि रिपोर्ट में पहले दो स्थानों पर आने वाले देशों का जिक्र नहीं है। लेकिन माना जा रहा है कि भारत से पहले इस सूची में चीन और अमेरिका ही रह जाएंगे।

– एचएसबीसी ने माना है कि मुख्य रूप से देश की ताकत भौगोलिक और मैक्रो स्थिरता रहेगी। ब्रोकरेज की रिपोर्ट के मुताबिक 2028 तक भारत की अर्थव्यस्था का आकार सात लाख करोड़ डॉलर का हो जाएगा।

– जबकि जर्मनी की अर्थव्यवस्था छह लाख करोड़ डालर से कुछ कम और जापान की पांच लाख करोड़ डॉलर रहने की उम्मीद है। वित्त वर्ष 2016-17 में भारतीय अर्थव्यवस्था 2.3 लाख करोड़ डॉलर की थी., और इसका दुनिया में पांचवा स्थान था

– जीएसटी के चलते बीते वर्ष के 7.1 फीसद जीडीपी विकास दर के मुकाबले इस वर्ष इसके धीमे रहने की संभावना है। लेकिन अगले वर्ष से इसमें सुधार दिखना शुरू हो जाएगा।

– रिपोर्ट के मुताबिक कभी कभी आर्थिक सुधार के कदम उठाना नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए भारत को सतत सुधार की जरूरत है और इसके लिए माहौल और तंत्र विकसित करना आवश्यक है।

– रिपोर्ट कहती है कि अर्थव्यवस्था में रोजगार की कमी को लेकर काफी चिंता जतायी जा रही है। लेकिन ई-कामर्स सेक्टर की तरफ से अगले एक दशक में 1.2 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा करेगा। साथ ही सामाजिक क्षेत्र रोजगार सृजन में बड़ी भूमिका निभा सकता है। इस क्षेत्र में स्वास्थ्य और शिक्षा में काफी काम होना अभी बाकी है।

– भारतीय अर्थव्यवस्था पर रोशनी डालते हुए रिपोर्ट कहती है कि यह सेवा आधारित अर्थव्यवस्था आगे भी बनी रहेगी। लेकिन सरकार को मैन्यूफैक्चरिंग और कृषि क्षेत्र पर खास ध्यान देने की आवश्यकता है।

– बड़े लक्ष्यों को पाने के लिए यह जरूरी है कि सरकार मैन्यूफैक्चरिंग, कृषि और सेवा क्षेत्र के योगदान के मौजूदा स्तर को बनाये रखा जाए।

HSBC REPORT
एचएसबीसी

एचएसबीसी (हॉन्ग कॉन्ग ऐंड शंघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन) के बारे में

एचएसबीसी होल्डिंग्स पीएलसी एक ब्रिटिश  बहुराष्ट्रीय बैंकिंग और वित्तीय सेवा वाली होल्डिंग कंपनी है, जिसका उद्गम हांगकांग में है। यह कुल संपत्ति से दुनिया का सातवां सबसे बड़ा बैंक है और यूरोप में सबसे बड़ा आबादी 2.374 खरब अमेरिकी डॉलर (दिसंबर 2016 तक) की कुल संपत्ति है। इसे 1991 में द हांगकांग और शंघाई बैंकिंग कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा लंदन में अपने वर्तमान रूप में एक नए समूह होल्डिंग कंपनी के रूप में कार्य करने के लिए स्थापित किया गया था।  बैंक की उत्पत्ति मुख्य रूप से हांगकांग में और शंघाई में कम हद तक होती है, जहां शाखाओं को पहली बार 1865 में खोला गया था।  एचएसबीसी का नाम हांगकॉन्ग और शंघाई बैंकिंग निगम के प्रथम अक्षर से लिया गया है। कंपनी को पहली बार 1866 में औपचारिक रूप से शामिल किया गया था। कंपनी यूनाइटेड किंगडम और हांगकांग को “होम मार्केट” के रूप में देखती रही है।

एचएसबीसी के करीब 70 देशों और अफ्रीका, एशिया, ओशिनिया, यूरोप, उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका और लगभग 37 मिलियन ग्राहकों में लगभग 4,000 कार्यालय हैं। फोर्ब्स पत्रिका द्वारा समग्र उपाय के अनुसार, 2014 तक, यह दुनिया की छठे सबसे बड़ी सार्वजनिक कंपनी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here