डिप्रेशन के इलाज में मदद करेगा जादुई मशरुम: शोध

0
213
msuhroom
मशरुम

डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी है जिसमें लोग काफी निराशावादी हो जाते हैं। लेकिन अगर आप मशरुम खाते हैं तो इस बीमारी से बच सकते हैं एक नए शोध में यह दावा किया गया है कि जादुई मशरूम बेहद प्रभावी ढंग से अवसाद का इलाज कर सकती है। सिलोकाइबिन मशरूम यानी जादुई मशरूम बेहद प्रभावी ढंग से अवसाद का इलाज कर सकती है, यह जादुई मशरूम इस बीमारी से परेशान मरीजों के मस्तिष्क के प्रमुख तंत्र की गतिविधि को ‘फिर से शुरू’ कर सकने में सक्षम है.

इस शोध के लिये ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने अवसाद से पीड़ित कुछ मरीजों के इलाज के लिए सिलोकाइबिन (मशरूम में पाया जाने वाला मन:सक्रिय पदार्थ) का प्रयोग किया, ये वैसे मरीज थे जिनका इलाज पांरपरिक उपचार के जरिए सफल नहीं हो पाया था।उन्होंने पाया कि इलाज के कई हफ्तों बाद, सिलोकाइबिन लेने वाले मरीजों में बीमारी के लक्षण कम होने लगे। यह शोध साइंटिफिक रिपोर्ट्स पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

क्या है डिप्रेशन यानी अवसाद

डिप्रेशन यानी अवसाद एक ऐसी बीमारी है जो कि मनोभावों संबंधी दुख से होती है, इसे रोग या सिंड्रोम की संज्ञा दी जाती है जब भी कोई व्यक्ति स्वयं को लाचार और निराश महसूस करता है तो वहीं कहीं ना कहीं इस बीमारी से घिर चुका है।
उस व्यक्ति-विशेष के लिए सुख, शांति, सफलता, खुशी यहां हर चीज उसे बेकार लगने लगती है और उसे हर जगह निराशा, तनाव, अशांति, अरुचि प्रतीत होती है।

अवसाद के 10 प्रतिशत रोगियों में नींद की समस्या होती है। मनोविश्लेषकों के अनुसार अवसाद के कई कारण हो सकते हैं। यह मूलत: किसी व्यक्ति की सोच की बुनावट या उसके मूल व्यक्तित्व पर निर्भर करता है। अवसाद लाइलाज रोग नहीं है। इसके पीछे जैविक, आनुवांशिक और मनोसामाजिक कारण होते हैं।

यही नहीं जैवरासायनिक असंतुलन के कारण भी अवसाद घेर सकता है। इसकी अधिकता के कारण रोगी आत्महत्या तक कर सकते हैं। इसलिए परिजनों को सजग रहना चाहिए और उनके परिवार का कोई सदस्य गुमसुम रहता है, और किसी बात का ध्यान ना दे, अपनी एक बात कहता रहें तो समझों वह डिप्रेशन का शिकार हो गया है और ऐसा होने पर तुरंत किसी मनोचिकित्सक सें मिलें।

किसी भी बात पर अमल करने से पहले डॅाक्टर की राय अवश्य लें।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here