अब पतंगो से भी बनेगी बिजली

0
146
kites driven electricity
पतंगो से भी बिजली

भारत सरकार द्वारा 2022 तक 60,000 मेगावाट पवन उर्जा उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है, जबकि वर्तमान में हमारी उत्पादन क्षमता लगभग 32,000 मेगावाट ही है| पवन ऊर्जा के उत्पादन के समक्ष कई चुनौतिया है जैसे निवेश,भूमि,सौर उर्जा से प्रतिस्पर्धा इस कारण पतंगो का उपयोग करके ऊर्जा का उत्पादन किया जायेगा|

भारत का विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, एक नई योजना ला रहा है, काइट्स ड्रिवेन इलेक्ट्रिसिटी स्टेशन| इस स्टेशन की पतंगे controlable flying device है, जिन्हें 750 मीटर पर एक क्रम में नियमित किया जाता है| इन ऊचे स्थानों पर पवन की वेलोसिटी ज़मीन की तुलना में दोगुनी होती है| इस प्रकार इन पतंगो से कम लागत पर ऊर्जा प्राप्त की जा सकती है|  traditional wind farms की तुलना में इनकी लागत 50 से 60 प्रतिशत कम रहेगी तथा traditional turbine system की तुलना में भी यह कम नॉइज़ प्रदुषण करती है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here