हाथ जोड़कर थाने पहुँची राधे माँ, जानें कैसे बनी सुखविंदर कौर से स्वयंभू ‘धर्मगुरु’

0
361
राधे माँ का विवादों से पुराना नाता रहा है

यह घटना दिल्ली के विवेक विहार थाने की है। खुद ‘राधे माँ’ जब दिल्ली के इस थाने में आईं तो थाने का एसएचओ अपनी कुर्सी छोड़ राधे माँ के सामने हाथ जोड़ खड़े हो गए। एसएचओ ने वर्दी के ऊपर लाल रंग की चुनरी भी डाली ।
यहाँ विवादास्पद धर्मगुरु राधे माँ पुलिस थाने के अंदर एसएचओ की कुर्सी पर विराजमान दिखीं ।

थाने में कुछ भक्त भी जुटे, जिन्होंने राधे माँ के नाम के जयकारे लगाए। अगर सूत्रों की मानें तो यह तस्वीर नवरात्रों के दौरान अष्टमी के दिन की है। जब एसएचओ से इस के बारे में पूछा गया तो वे बिना जवाब दिए निकल गए। थाने के एक कांस्टेबल ने इस पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि राधे माँ रामलीला में आई थी। अधिक भीड़ जुटने की वजह से एसएचओ संजय शर्मा उन्हें थाने में लाए।

राधे माँ फ़र्ज़ी संत घोषित हो चुकीं है:-

radhe maa
राधे माँ नकली बाबओं की लिस्ट में शामिल हैं

हाल ही में संतों की एक संस्था ने बकायदा बैठक कर देशभर के फ़र्ज़ी यानी नकली बाबाओं की लिस्ट जारी की थी। राधे माँ का नाम भी इस में शामिल था।

ऐसे में पुलिस स्टेशन जैसी जगहों पर राधे माँ जैसी खुद ही द्वारा घोषित धर्मगुरुओं का पहुँचना गंभीर है।

सेक्स रैकेट चलाने का आरोप:-

radhe maa
मॉडल अर्शी ख़ान ने राधे माँ पर केस दर्ज किया था

बिग बॉस 11 की कन्टेस्टेंट मॉडल अर्शी ख़ान ने राधे माँ पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगाया था। उन्होने कहा कि मुझे इसमे धकेलने की कोशिश की गई। अर्शी ने इस बाबत मुंबई पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी।

वहीं टीवी अभिनेत्री डॉली बिंद्रा ने भी राधे माँ के खिलाफ़ अश्लीलता फैलाने का आरोप लगाया था।

राधे माँ की एक-एक हरकतों का रेट कार्ड तय होता था:-

radhe maa
राधे माँ पैसे लेक‍र अपने भक्‍तों के साथ आपत्तिजनक हरकतें तक करती थी

एक भक्‍त ने दावा किया है कि हर चौकी में राधे माँ की एक-एक हरकतों का रेट कार्ड तय होता था। वह पैसे लेक‍र अपने भक्‍तों के साथ आपत्तिजनक हरकतें तक करती थी। यह खुलासा मनमोहन गुप्‍ता नाम के व्यक्ति ने किए हैं जो एक दुकान चलाते हैं। उनके ही मकान के उपर मंज़िल में राधे माँ रहती थी।

एक चैनल के साथ बातचीत में मनमोहन गुप्‍ता ने राधे पर ये आरोप लगाए थे। मनमोहन गुप्‍ता ने बताया कि राधे माँ का एक रेट कार्ड पहले से फि‍क्‍स होता है। इतना ही नहीं जो भक्‍त चौकी में अधिक पैसे देता है, राधे माँ उसकी गोद में बैठ जाती है और कई भक्‍तों को पैसे के लिए गले भी लगाती है।

जब राधे माँ ने पहनी मिनी स्कर्ट:-

RADHE MAA
मिनी स्कर्ट में राधे माँ

कुछ समय पहले उनकी कई तस्वीरे वायरल हुई थी जिसमे वह मिनी स्कर्ट पहने थीं। इस पर राधे माँ ने अँग्रेज़ी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में कहा कि मेरे भक्त मेरा मेकअप करते हैं। उन्होंने ही मुझे मिनी स्कर्ट पहनने को दिए। मैं उनकी खुशी के लिए ऐसा करती हूँ। अगर भक्त खुश हैं तो मैं भी खुश हूँ।

दहेज उत्पीड़न के मामले में फँस चुकी हैं:-

radhe maa
मुंबई में उनके खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला दर्ज हुआ

मुंबई पुलिस ने राधे माँ को 32 वर्षीय एक महिला द्वारा दहेज के लिए प्रताड़ित करने, मानसिक और शारीरिक यातना देने के आरोप लगाने के बाद शिकायत दर्ज की थी।
महिला ने बताया था कि उसके पति और ससुरालियों ने राधे माँ के कहने पर उसके साथ दुर्व्यवहार किया।

कैसे बनी सुखविंदर कौर से  राधे माँ:-

radhe maa
राधे माँ का असली नाम सुखविंदर कौर है

राधे माँ बनने से पहले वह 2 बच्चों की माँ थी। उनका असली नाम सुखविंदर कौर है। उन्होने मिठाई की दुकान चलाने वाले अपने पति के साथ घर खर्च चलाने के लिए टेलरिंग भी की। उनका जन्म पंजाब के गुरदासपुर में सरकारी अफ़सर के घर में हुआ था। उन्होने केवल 10 वीं तक की पढ़ाई की है।

उनकी वेबसाइट पर ये तथ्य मिले हैं कि जब सुखविंदर कौर के पति बेहतर मौकों की तलाश में विदेश चले गए तो उन्होने सांसारिक जीवन त्याग दिया। इसके बाद वो परमहंस डेरा में लीन हो गईं और प्रवचनों के लिए दौरे करने लगीं। कुछ साल बाद वह मुंबई आ गईं और उनका समूह बढ़ने लगा।

उनके भक्त आज भी उन्हे देवी दुर्गा का अवतार मानते हैं और उनके किसी भी विवाद से नाते को नकार देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here