“सागर वाणी”ऐप:- अब आप समुद्र में भी सुरक्षित है

0
489
sagar-vani-app-launched
“सागर वाणी”ऐप

जितना ज़रूरी हमारा घरती पर सुरक्षित रहना है उनता सागर में। हमेशा से सागर के व्यापार से जुड़े व्यक्तियों के लिए उनकी सुरक्षा चिंता का विषय बनी रही है। अभी तक ना ही शासन का और प्रशासन का ध्यान इस ओर गया था पर सागर वाणी ऐप के ज़रिये अब आप सागर में भी खुद को सुरक्षित महसूस कर सकतें हैं।

वेव राइडर बोई  “सागर वाणी” की शुरूआत की।  जिसके माध्यम से मछली पकड़ने के क्षेत्र में परामर्श, महासागर भविष्यवाणी, ऊँची लहरों और सुनामी के बारे में पूर्व चेतावनी जैसी जानकारी और परामर्श को पहुंचाया जा सकेगा, खासतौर से मछुआरों को उनकी आजीविका और समुद्र में सुरक्षा के संबंध में परामर्श और चेतावनियां देने में योगदान देगा।

वेव राइडर बोई (तैरता संकेतक):-

भारतीय राष्ट्रीय समुद्री सूचना सेवा केंद्र हैदराबाद ने हिंद महासागर देशों के लिए एकीकृत समुद्री सूचना प्रणाली के हिस्से के रूप में सेशेल्स के निकट फ्रिगेट द्वीप से दूर सफलतापूर्वक वेव राइडर बोई (तैरता संकेतक) की तैनाती की है। समुद्री स्थिति का पूर्वानुमान समुद्र में सुरक्षित नौवहन तथा संचालन के लिए आवश्यक है। एकीकृत समुद्री सूचना प्रणाली अफ्रीका तथा एशिया के लिए क्षेत्रीय एकीकृत बहुसंकटीय पूर्वचेतावनी प्रणाली के तकनीकी सहयोग मंच के अंतर्गत स्थापित की जा रही है।

एकत्रित समुद्री डाटा न केवल सेशेल्स के आसपास के समुद्री क्षेत्र के लिए आईएनसीओआईएस के तरंग तथा समुद्री सतह तापमान (एसएसटी) को वास्तविक समय में वैधता देंगे, बल्कि इससे दक्षिणी महासागर से चलने वाली और भारत के दक्षिण पश्चिम तट पर पहुंचने वाली तेज लहरों के विश्लेषण में भी मदद मिलेगी। इससे केरल तट पर गांव तथा मछली मारने वाली नौकाओं को क्षति पहुंचाने वाली ऊंची लहरों (कल्लाकदल) के बारे में पूर्वानुमान व्यक्त करने की हमारी क्षमता में भी मजबूती और वृद्धि होगी।

sagar-vani
“सागर वाणी”ऐप

तैरते संकेतक की सुरक्षा और उसकी सहज वापसी सुनिश्चित करने के लिए एक सतर्कता प्रणाली लगाई गई है, अगर यह संकेतक अपनी स्थिति से 200 मीटर दूर जाता है तो ऐसी स्थिति में सभी संबंधित अधिकारियों को अलर्ट प्राप्त होगा।

हज़ारो लोगों को होगा फायदा

3,999,214 मछुआरों के साथ समुद्री मछली पकड़ने वाले 3288 गांव और 1511 समुद्री मछली लेंडिंग केन्द्र है। करीब 37.8 प्रतिशत (1,511,703) मछुआरे सक्रिय रूप से मछली पकड़ने के कार्य में लगे हुए हैं। करीब 927,120 मछुआरे पूर्ण अथवा आंशिक मछली पकड़ने के कार्य में शामिल हैं।
ईएसएसओ-आईएनसीओआईएस का लाभ करीब 3.17 लाख उपयोगकर्ता आंतरिक प्रयासों के साथ-साथ साझेदार संगठनों के जरिये ले सकेंगे।
वर्तमान में परामर्शों का विभिन्न सेवा केन्द्रों और सहयोगियों के जरिये साझेदारों के बीच प्रसार किया जाता है जिससे सेवाओं के प्रसार में देरी हो सकती है। परामर्शों का प्रभावी और समय पर प्रयोगशाला से सीधे प्रसार करने के लिए एक एकीकृत सूचना प्रसार प्रणाली-सागर वाणी विकसित की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here