आखिर क्यों149 सालों के इतिहास में बंद हो रही है इस ग्रुप की यह टेलीकॅाम कंपनी

0
208
TATA TELECOM
टाटा टेलीकॅाम

कई टेलीकॉम कंपनियों ने जहां एक तरफ नयी योजनायें चलाने की बात कर रही है वहीं देश की अग्रणी श्रेणी की कंपनी टाटा ग्रुप ने अपनी दूरसंचार सेवा को बंद करने का ऐलान कर दिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बात की जानकारी टाटा ग्रुप ने सोशल मीडिया के जरिये भारत सरकार/डीओटी को आधिकारिक तौर पर सूचना देते हुये कहा वो टाटा टेलीसर्विसेज (टाटा डोकोमो) को बंद करने जा रही है। साथ ही यह भी कहा कि टेलीकॉम सर्विसेज को बंद करने की तैयारी शुरू हो चुकी है।

और संभवानायें यह लगायी जा रही है कि जल्द ही यह सेवायें स्थायी रुप से बंद कर दी जायेगीं। खबरों की मानें तो टाटा की टेलीकॅाम सेवा बहुत समय से घाटे में चल रही है। और इसी वजह से चेयरमैन एन. चंद्रशेखरन अब इस कारोबार को समटने पर विचार कर रहे हैं।

क्या है टाटा टेलीसर्विसेज
टाटा टेलीसर्विसेज लिमिटेड भारतीय व्यवसायी टाटा समूह की कंपनियों का एक हिस्सा है। यह भारत के विभिन्न दूरसंचार क्षेत्रों में टाटा इंडिकॉम के ब्रांड नाम के तहत दूरसंचार सेवायें प्रदान करती है। नवम्बर २००८ में, जापानी दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी एनटीटी डोकोमो ने इसकी २६ प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी १३,०७० करोड़ रुपए (२.७ अरब डॉलर) या उद्यम मूल्य ५०,२६९ करोड़ रुपए (५८१ अरब रुपये) में खरीद लिया । टाटा टेलीसर्विसेज ग्रुप की पहली ऐसी कंपनी होगी, जिसे 149 सालों के इतिहास में बंद किया जा रहा है।टाटा टेलीसर्विसेज की स्‍थापना 1996 में लैंडलाइन ऑपरेशन के साथ की गई थी. इसने 2002 में सीडीएमए ऑपरेशन लॉन्‍च किया था।

क्यों बंद हो रही हैं इसकी सेवायें
टाटा टेलीसर्विसेज बहुत बडा ग्रुप है और अगर टेलीकॉम सेवा बंद की जाएगी तो टाटा ग्रुप की बैलेंस शीट पर गहरा असर पड़ सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, ग्रुप की इस कंपनी पर 34,000 करोड़ रुपये का कर्ज है साथ ही कर्ज देने वाली संस्थाएं भी राशि वसूलने के लिए दबाव बना रही हैं, माना जा रहा है कि ये पहला मौका है जब समूह की कोई कंपनी इस तरह के संकट में आ फंसी है। अभी फिलहाल टाटा टेलीसर्विसेज के कुल 4.5 करोड़ सबस्क्राइबर्स हैं।

टाटा टेलीसर्विसेज ने कंपनी के लिये एयरटेल और रिलायंस जियो से भी बातचीत की लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकाल, कंपनी के जापानी साझेदार डोकोमो की ओर से हाथ खींचे जाने के बाद से विकल्पों पर विचार चल रहा है।डोकोमो की टाटा टेलिसर्विसेज में 26 फीसदी की हिस्सेदारी थी, हालांकि, कंपनी ने ट्वीट में साफ किया है कि डोकोमो के बंद होने में उसके सबस्क्राइबर्स को किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी। फिलहाल टाटा टेलीसर्विसेज को बहुत बडा झटका लगा है इस ग्रुप ने अपने उपभोक्ताओं को बेहतरीन सेवायें भी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here