कहीं आपके भी स्मार्टफोन में वायरस तो नहीं, लगायें ऐसे पता

0
184
SMARTPHONE
कहीं आपके फोन में वायरस तो नहीं

दुनियाभर में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या अगनित है और स्मार्टफोन तो हर किसी की जरुरत बन गया है। इसके बिना तो हमारी जिन्दगी एकदम अधूरी है, किसी भी स्मार्टफोन में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है ऐंड्रॉयड। आज इसके दुनियाभर में 100 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। स्मार्टफोन में कई हाईटेक ऐप होते हैं और जिनका इस्तेमाल हम लगभग हर दिन करते हैं, लेकिन ज्यादा तकनीकी भी परेशानी का सबब बन सकती हैं, देखा जाए तो साइबर अपराध आजकल बहुत ज्यादा खतरनाक साबित हो रहा है।

ऐंड्रॉयड में वायरस और हैकर्स ने अपनी पकड बना रखी है औऱ ऐंड्रॉयड यूजर्स को अपने जाल में फंसाने के लिए हैकर्स नये तरीके अपनाने रहे हैं, यदि आप कोई ऐसा ऐप डाउनलोड कर रहे हैं जिसके बारें में आपको कोई जानकारी नहीं है, तो ऐसे में हैकर्स आसानी से आपसे जुड़ी गुप्त जानकारी हासिल कर लेते हैं जोकि आपके फोन के लिए घातक साबित हो सकता हैं, लेकिन इससे आप बच सकते हैं इसके लिए जरुरत है कुछ ऐसी बातों को ध्यान रखने की जिनके जरिये हम पता लगा सकते हैं कि कहीं हमारे फोन में वायरस तो नहीं-

  1. अगर अचानक से आपके मोबाइल का डेटा पहले के मुकाबले ज्यादा तेजी से खर्च होने लगे, तो इसकी एक वजह फोन में वायरस भी हो सकते हैं। यदि पिछले महीने की तुलना में बगैर ज्यादा इस्तेमाल किए आपका डेटा ज्यादा खर्च हुआ है, तो समझ जाएं कि आपका मोबाइल या टैब वायरस ने अटैक कर दिया है।
  2. अगर आपके मोबाइल बिल में अनावश्यक मैसेज चार्ज लिया जा रहा है तो आपके फोन में वायरस हो सकता है। आप इस बात का आसानी से पता लगा सकते हैं कि कहीं आपके फोन से प्रीमियम रेट नंबर पर मैसेज तो नहीं भेजे जा रहे और वह भी बिना आपकी जानकारी के। प्रीमियम रेट नंबर एक स्पेशल नंबर होता है जिसपर मेसेज भेजने का चार्ज सामान्य के मुकाबले कहीं ज्यादा होता है।
  3. यदि आपके फोन की ज्यादा बैटरी खर्च होने लगे तो इसका मतलब है कि आपके फोन में वाइरस हो सकता है। यदि आपने कोई ऐसी एप डाउनलोड की है जिसके बाद तुरंत फोन की बैटरी जा रही है तो समझ लीजिये यह फोन वायरस की चपेट में हैं और तुरंत उस एप को हटा दें।
  4. अगर आप पॉप अप्स, नोटिफिकेशन्स, अनचाहे रिमाइंडर और सिस्टम वार्निंग जैसे नोटिफिकेशन्स पर क्लिक करते हैं तो इससे भी आपके डिवाइस में वाइरस बढ़ता जाता है। इसलिए ऐसे रिमाइंडर्स और सिस्टम वॉर्निंग्स पर क्लिक करने से बचें किसी भी साइट पर किलक करने से पहले एक बार जरुर सोच ले क्योंकि आजकल वायरस पूरी तरह से आपके फोन की निजता को समाप्त कर सकते हैं।
  5. कुछ ऐसे भी ऐप होते हैं जो बिना आपकी जानकारी के ही आपके मोबाइल में इंस्टॉल हो जाते है। ट्रोजन मैलवेयर के जरिए आपके मोबाइल फोन को नुकसान पहुंचाने वाले ऐप ऑटोमैटिक डाउनलोड हो जाते हैं। यदि फोन में आपको ऐसे ऐप दिखें जो आपने इंस्टॉल न किए हों तो उन्हें तुरंत हटा दें, कोशिश करें फोन में वही एप डाउनलोड करें जिन पर पूरी तरह से जानकारी दी गयी हैं। और उन एप से बचें जो केवल टाइमपास के लिए होते हैं क्योंकि ऐसे एप में साइबर अपराधियों की नजर होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here